BankingEarn Money OnlineInvestment

FD, RD और MIS में से कौन है किससे बेहतर?

FD, RD और MIS में से कौन है किससे बेहतर?

दोस्तों हर कोई Savings करना चाहता है। कोई भी व्यक्ति जो कुछ न कुछ कमाई कर रहा है फिर चाहे वो कमाई छोटी ही क्यों न हो वो उसमें से कुछ हिस्सा ज़रूर बचा लेना चाहते हैं।

Savings करने के बाद हर कोई चाहता है कि वो Saved पैसों को किसी अच्छी जगह Invest करें ताकि उन्हें बाद में एक अच्छी रकम वापिस मिल सके।

इसके लिए लोग तरह तरह की Schemes अपनाते हैं। कुछ लोग तो Bank में भी पैसा रखते हैं मगर दोस्तों जिस तरह का मुनाफा चाहिए होता है उस तरह का मुनाफा किसी से भी मिल नहीं पाता है।

Savings के लिए कई लोग FD भी करवाते हैं। FD यानी कि Fixed deposit, कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो FD न करवाकर RD करवाते हैं।

RD का मतलब होता है Recurring deposit, इसके अलावा भी बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें MIS के बारे में जानकारी होती है और वो इसी में पैसों को Invest करना बेहतर समझते हैं।

FD और RD तो लगभग सभी लोग करवाते हैं मगर MIS बहुत ही कम लोग करवाते हैं क्योंकि इसके बारे में सभी को जानकारी नहीं होती है।

MIS को Monthly income scheme के नाम से जाना जाता है। ये कुछ अलग नहीं है बल्कि FD की तरह ही Savings करने का एक तरीका है।

खैर दोस्तों अब जब तीनों के नाम अलग हैं तो जाहिर सी बात है कि ये तीनों Schemes भी अलग ही होंगी।

आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे हैं। हम आपको बताएंगे की FD, RD और MIS हैं क्या तथा इनमें से कौन आपके लिए एक बेहतर Investment के रूप में साबित हो सकती है।

इस Article को पढ़ने के बाद आप इनतीनों के बीच के अंतर को समझ जाएंगे और साथ ही आप ये भी जान पाएंगे कि आपको अगर अपनी Savings को Invest करना है तो आपको किस में Invest करना चाहिए।

चलिए फिर देखते हैं कि ये तीनों हैं क्या :

FD क्या है?

FD यानी कि Fixed deposit, ये Investment का एक बेहतरीन तरीका माना जाता है।

ये एक ऐसी Investment scheme है जिसमें आपका जो Interest rate होता है वो Fixed होता है।

इसमें आप किसी भी Bank या फिर Non banking financial company में एक Fixed amount जमा करते हैं।

ये जो आप Amount deposit करते हैं ये आपको एक Fixed time period के लिए (जैसे 3 साल, 5 साल) करना रहता है और उतने समय तक आपका Amount locked रहता है।

जैसे ही Time period पूरा हो जाता है वैसे ही आपको आपका पैसा Interest rate कप जोड़कर आपको लौटा दिया जाता है। आइये अब जानते हैं कि इसके फायदे क्या होते हैं।

FD के फायदे क्या है?

इसके बहुत सारे फायदे हैं। इसके फायदे होने की वजह से ही ज्यादातर लोग इसी में पैसे Invest कर रहे हैं।

इसके कुछ फायदे निम्न हैं –

◆ इसमें सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि FD कराते वक़्त आप से जो Interest rate बताया जाता है आपका Time duration पूरा होने के बाद आपको उसी Interest rate के हिसाब से पैसा लौटाया जाता है।

मान के चलिए कि आपने आज 5 साल के लिए FD करवाई है तो इस बीच अगर Bank का Interest rate कम हो जाता है तो इससे आपके Investment पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

आपके FD करवाते वक़्त जो Interest rate था Bank का, अंत तक वही Rate रहेगा, जब तक आपको आपका पैसा Interest के साथ वापस न कर दिया जाए।

◆ इसमें Stock market के जैसा कोई भी Risk नहीं रहता है। साथ ही आपका पैसा यहां पर बिल्कुल Safe और Secure रहता है।

◆ यहाँ पर अगर समयावधि पूरी होने के बाद आपको लगने लगे कि आप और Invest करना चाहते हैं और Time duration को बढ़ाना चाहते हैं तो आप Duration को बढ़ा भी सकते हैं।

मगर हां दोस्तों एक बात यहां पर ध्यान देने वाली ये है कि आप अपनी FD Mature होने के बाद ही ये काम कर सकते हैं।

चलिए अब जानते हैं कि RD क्या है :

RD क्या है?

RD एक तरह से Investment का एक तरीका है। इसको Recurring deposit के नाम से भी जाना जाता है।

इसमें आपको एक निश्चित समय में कुछ Fixed amount जमा करना होता है। इससे आप हर महीने कुछ Savings करने में सक्षम हो पाते हैं।

आप अपना पैसा Post office में रखते हैं तो इसलिए आपको आपके पैसे पर Interest भी मिलता है।

जब RD Mature हो जाती है तब आपको सारे पैसे Interest के साथ वापस कर दिए जाते हैं। RD 6 महीने से लेकर 10 साल तक की हो सकती है।

RD के फायदे क्या है?

इसके भी काफी सारे फायदे हैं जो कि निम्न हैं –

◆ इसमें अगर आपके पास ज्यादा Amount नहीं है जमा करने के लिए तो भी कोई दिक्कत नहीं होती है।

आप छोटी छोटी रकम को इसमें जमा कर सकते हैं। कुछ Schemes में आपको एक साथ ही बड़ा Amount रखने की ज़रूरत पड़ जाती है मगर इसमें ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। आप जितने चाहे उतने Amount से शुरुआत कर सकते हैं।

◆ ये बहुत ही ज्यादा Safe और secure investment scheme है। Share market का कोई भी असर इसमें नहीं देखने को मिलता है। Market में उतार चढ़ाव अगर होते भी हैं तो इससे आपके Amount या Investment पर कोई भी फर्क नहीं पड़ता है।

◆ इसमें भी FD की तरह ही Interest rate समान ही रहता है। अगर आगे चलकर Bank का Interest rate down भी होता है तब भी उसका आपके Deposit पर कोई भी असर नहीं होता है।

MIS क्या होता है?

अब जानते हैं कि MIS क्या है। हमने आपको ऊपर भी बताया है कि इसको Monthly income scheme के नाम सभी जाना जाता है।

जिस तरह से आप FD करवाते हैं, ठीक उसी तरह से ये भी है। इसमें भी आप अपने पैसों को एक Fixed time duration के लिए Bank में जमा करते हैं।

इसमें और उसमें अंतर बस इतना है कि इसमें आपको हर महीने Interest rate आपके Account में भेज दिया जाता है और आपको Interest के लिए एक लंबे समय का इंतज़ार नहीं करना पड़ता है।

MIS के फायदे क्या हैं?

इसके काफी सारे फायदे हैं। इसके कुछ फायदे निम्न हैं –

◆ अगर आप बाद में ये चाहते हैं कि आपके MIS की Time duration को आगे बढ़ा दिया जाए तो आप इसको आगे भी बढ़ा सकते हैं।

◆ इसमें आपको Interest हर महीने प्राप्त हो जाता है जिसकी वजह से अगर महीने में आपको पैसे की ज़रूरत पड़ती है तो आप उसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

◆ इसमें आपके पैसे पूरी तरह से सुरक्षित रहते हैं। ये Scheme पूरी तरह से Safe और Secure है। 

चलिए अब जानते हैं कि आपके लिए बेहतर कौन सी Scheme है।

FD तथा RD में कौन है बेहतर?

◆ दोस्तों RD में आप करते क्या हैं कि हर महीने थोड़ी थोड़ी सी रकम को एक Fixed time duration के लिए Bank में Deposit करते हैं।

◆ इसमें आपको एक साथ ही एक बड़ी सी रकम को किसी Fixed time duration के लिए Bank में जमा करना होता है।

◆ इन दोनों ही Scheme में जो Interest rate होती है वो Fix होती है। Share market में अगर उछाल और गिरावट आती भी है तो आपके Interest पर उसका कोई भी असर नहीं देखने को मिलता है।

RD और MIS में कौन है बेहतर?

◆ अभी हमने आपको बताया ही है कि RD क्या है। इसमें आप थोड़ी थोड़ी रकम को हर महीने Invest करते हैं। फिर जब आपकी Policy mature हो जाती है, उसके बाद आपको सारा Interest जोड़कर आपके पैसे लौटा दिए जाते हैं।

◆ MIS में क्या होता है कि आपका जो पैसा होता है उसे एक Fixed time duration तक Locked रखा जाता है तथा हर महीने जो भी आपका Interest बनता है वो आपके Account में Transfer कर दिया जाता है

◆ ये दोनों ही पैसे Invest करने के तरीके Safe और Secure हैं। इनमें किसी भी तरह का कोई Risk नहीं है।

FD, RD तथा MIS में कौन है बेहतर?

◆ जो लोग किसी Private firm में नौकरी कर रहे हैं। जिन्हें हर महीने बस बंधी हुई Salary ही हाथ मे मिल रही है। ऐसे लोगों के Recurring deposit बेहतर साबित हो सकती है।

अगर आप ज्यादा Savings नहीं कर पा रहे हैं तो फिर आपको RD ज़रूर खुलवा लेनी चाहिए।

◆ ऐसे लोगों जिनके पास बहुत बड़ी रकम है तथा कुछ समय तक उन्हें इसकी कोई भारी ज़रूरत नहीं है तो ऐसे लोग FD करवा सकते हैं।

इससे आपको फायदा ये होगा कि आपको Interest rate bank से अच्छा मिल जाएगा।

आप किसी गलत जगह पर पैसे को Invest करने से बच जाएंगे। FD में आपका पैसा Lock हो जाएगा और बहुत ज्यादा Safe तथा Secure रहेगा।

◆ जो लोग Retire हो चुके हैं तथा उन्हें पेंशन मिल रही है। उन लोगों के लिए MIS बहुत ही बेहतर Option है। दोस्तों Pensioners को Salary की आधी ही Pension मिलती है। इसलिए महीने में खर्चे ज्यादा रहते हैं जो Pension में नहीं Adjust हो सकते हैं।

अगर आप MIS में पैसे Invest कर देते हैं तो आपको इसमें Monthly interest मिल जाता है म जिससे आप आराम से बिना पैसों की Tension के ज़िंदगी व्यतीत कर सकते हैं।

समय के साथ दोस्तों इन सभी Schemes के Interest rate कम होते जा रहे हैं। इस समय आपको सबसे ज्यादा Interest पोस्ट ऑफिस में पैसे रखने पर मिलता है।


दोस्तों तो ये थी FD, RD तथा MIS से जुड़ी जानकारी। अब आप लोग इन तीनों के बारे में ही अच्छे से जान चुके होंगे।

देखिए किसी एक को बेहतर बताना सही नहीं होगा क्योंकि तीनों ही Schemes अपने आप में बेहतर है।

जैसे जो Pensioner है उसके लिए Monthly scheme अच्छी है। जो ऐसा व्यक्ति है जिसके पास आज ढेर सारी रकम इकट्ठा हुए हैं उसके लिए FD अच्छी है।

इसी तरह से जिसकी बंधी हुई Salary हर महीने आ रही है, उन लोगों के लिए RD अच्छी है। इसका मतलब ये है कि ये आपके पेशे पर निर्भर करता है।

तो दोस्तों आप अब देख लीजिए कि आप इस समय क्या कर रहे हैं उसके बाद जहां पर आपको Interest सही मिले आप वहां पर पैसों को Invest करें।

एक बात और कि पैसे Invest करने से पहले आप सब कुछ अच्छे से जान और समझ लें ताकि आगे चलकर आपको कोई दिक्कत न हो।

About author

Articles

मैं अपने इस ब्लॉग पे इंटरनेट, मोबाइल, कंप्यूटर कैर्रिएर से रिलेटेड आर्टिकल पोस्ट करता हु और ये उम्मीद करता हूँ कि ये आपके लिए सहायक हो। अगर आपको मेरा आर्टिकल पसंद आये तो आप इसे लाइक ,कमेंट अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और आपको मुझे कोई भी सुझाव देना है तो आप मुझे ईमेल भी कर सकते है। मेरा ईमेल एड्रेस है – hindipost.net@gmail.com.
Related posts
BankingInvestment

Recurring Deposit और Fixed Deposit में क्या अंतर होता है?

दोस्तों आपने Recurring Deposit और Fixed Deposit Investment के…
Read more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!