Banking

लोन फोरक्लोजर क्या होता है?

दोस्तों अगर कभी हम ऐसी Situation में होते हैं कि हमारे पास पैसे न हो और कुछ बहुत ज़रूरी काम करना हो या फिर कोई चीज़ लेनी हो तो हम अक्सर Loan को अपने पहले विकल्प के रूप में चुनते हैं।

एक तरह से Loan सही भी है। कम से कम आपकी ज़रूरत के वक़्त आपको किसी के सामने हाथ तो नहीं फैलाना पड़ता है।

Loan ले लेने से आपकी मुश्किल आसान हो जाती है।

अब आप Home loan को ही ले लीजिए। आखिर दुनिया मे कौन सा ऐसा व्यक्ति है जो ये नहीं चाहता है कि उसका खुद का एक घर हो। छोटा ही सही मगर अपना घर हो।

तो ऐसे में एक Private sector में Job करने वाला 20 से 25 हज़ार रुपये महीने कमाने वाला व्यक्ति कहां से अपना घर ले पाएगा।

फिर जो चीज़ घर लेने में आपकी मदद करती है वो है Home loan, आजकल अलग अलग Banks Home loan दे रहे हैं और इनसे लाखों लोगों के घर बनाने के सपने सच हुए हैं।

Loan लेने से ये होता है कि आपको सारा पैसा एक साथ नहीं देना रहता है और छोटे छोटे Installments में आपको पैसे ब्याज के साथ देने होते हैं।

यही छोटे छोटे Installments कब छोटे से बड़े हो जाते हैं इसका अंदाज़ा भी कोई नहीं लगा सकता है। 

Loan की Installments दोस्तों सालों साल चलती हैं जिसकी वजह से इंसान परेशान हो जाता है और सब कुछ भूलकर बस ये चाहता है कि जल्द से जल्द वो Loan से फुर्सत पा जाए।

Loan अदा करने का एक समय होता है और उस निश्चित समय मे आपको सारी Installments देनी होती है मगर आपकी कोशिश रहती है कि आप कम से कम समय मे वो Installment चुकाएं जिससे आपको ब्याज कम देना पड़े।

आप Loan चुकाने के 3 तरीके अपना सकते हैं पहला तरीका होता है Regular क्लोजर का, दूसरा तरीका होता है प्री क्लोजर या फोरक्लोजर का जिसे आज हम सही से समझेंगे और तीसरा और आखिरी तरीका है पार्ट क्लोजर का।  आइये जानते हैं।

Regular क्लोजर क्या होता है:

Regular क्लोजर का मतलब होता है कि आप का Loan चुकाने के जो तरीका है को Regular है और आप Regular loan चुका कर Loan को बंद करना चाह रहे हैं।

इसमें आपको Loan की आखिरी Installment भरनी होती है और उसके बाद Loan क्लोजर के लिए आपको Bank से Contact करना होता है।

इसके लिए आपको अपने सारे Documents bank में जमा करने होते हैं और Loan बंद करने से पहले Bank आपके सारे Documents को Verify करता है। तथा उसके बाद आपको No dues का एक Certificate दे देता है।

इसका मतलब ये होता है कि आप पास Bank की कोई भी राशि बकाया नहीं है।

लोन प्री क्लोजर या फोरक्लोजर क्या होता है:

इस तरह से अगर आप Loan को बंद करना चाहते हैं तो दोस्तों आप तैयार हो जाइए क्योंकि Bank इसमें आप से कोई न कोई Charge ज़रूर ऐंठते हैं।

Bank जो Charge आप से ऐंठते हैं उसमें आमतौर पर वो आपके बकाया Amount का दो से 4 फीसदी Amount लेते हैं।

इस तरह के क्लोजर में भी आपको सबसे पहले Bank में अपने सारे Document जमा करने होते हैं और उसके बाद Bank आपके Documents verify करती है।

इसके बाद आप से बकाया राशि का एक Demand draft मांगा जाता है। जब Bank को पूरा पैसा मिल जाता है तो वो आपको एक Acknowledgement letter देता है तथा No dues दिखाता है।

जिसका मतलब ये होता है कि आपके पास Bank की कोई भी राशि बकाया नहीं है।

पार्ट क्लोजर क्या होता है:

इस तरह के Loan क्लोजर में आप दरअसल Loan का कुछ हिस्सा चुकाते हैं जिसे आप Partial Payment या फिर पार्ट Payment के नाम से जानते हैं।

इसके लिए आपको Bank से Contact करना पड़ता है और एक Request letter देना पड़ता है।

इसमें Bank का काम ये होता है कि आप जितने Amount का Payment करते हैं Bank उसको काट देता है और उसको काटने के बाद बची हुई राशि के लिए एक EMI तैयार करता है।

नई EMI Bank आपको बता देता है और आपको आगे का Loan उसी नई EMI के आधार पर चुकाना होता है। 

लोन फोरक्लोजर के लिए क्या करना होता है:

अगर आप अपना Loan बंद करना चाहते हैं और आप उसके लिए Loan फोरक्लोजर का तरीका अपनाते हैं तो आपको इसके लिए सबसे पहले Bank को  Loan फोरक्लोज कराने के लिए एक आवेदन करना होगा।

आवेदन के साथ ही आपको Loan के खाते का नंबर, PAN नंबर और Address की एक Foto copy लगानी होगी। 

आवेदन के बाद Bank क्या करेगा:

आवेदन प्राप्त हो जाने के बाद Bank आपकी बची हुई राशि की एक रकम निकालेगा और इसमें चुकाए गए ब्याज की रकम और फोरक्लोजर की तारीख को ध्यान में रखा जाएगा।

जितनी भी बकाया राशि होती है आप उसको Online transfer कर सकते हैं या Cheque के जरिए भी आप उसका Payment कर सकते हैं। इसमें आपको किसी भी प्रकार की Pre payment penalty नहीं देनी होती है।

जो Loan fixed rate वाले होते हैं उन पर आपको कुछ Charge देना पड़ सकता है। फोरक्लोजर Payment में आप से ये Charge जोड़कर लिए जाते हैं। 

फोरक्लोजर के लिए पैसे देने के बाद का Process:

आप जब एक बार सारा Payment कर देते हैं तो उसके बाद आपको वो सारे Documents वापस कर दिए जाएंगे जो आप ने Bank में जमा किये थे। 10 से 15 दिनों के भीतर ही आपको सारे Documents लौटा दिए जाते हैं।

इसके बाद आपको बस इतना करना है कि Bank से No dues का एक Certificate लेना होता है।

इसका मतलब ये होता है कि आपके पास Bank की कोई भी राशि बकाया नहीं है। 

Loan फोरक्लोजर के वक़्त आपको ये बातें ध्यान में रखनी चाहिए:

अगर आप Loan फोरक्लोजर के लिए जा रहे हैं तो आपको ये ध्यान रखना होगा कि-

◆ आप सबसे पहले अपने सारे Documents check कर लें कि जो आपको लौटाए गए Documents हैं वो सारे सही है या नहीं।

◆ जैसे ही आपका फोरक्लोजर का Process पूरा हो जाए  आप तुरंत Credit rating एजेंसियों को ये सूचना दे दें और उनसे कहें कि वो अपना Record update कर लें।

दोस्तों तो अब आप सब Loan बंद करने के Process के बारे में जान ही गए होंगे।

Loan फोरक्लोजर बहुत अच्छा तरीका है Loan को बंद करने का और ज्यादा से ज्यादा लोग चाहते हैं कि एकमुश्त पैसे चुका कर Loan से छुट्टी पा लें।

ऐसे में वो Loan फोरक्लोजर को ही अपनाते हैं।

About author

Articles

मैं अपने इस ब्लॉग पे इंटरनेट, मोबाइल, कंप्यूटर कैर्रिएर से रिलेटेड आर्टिकल पोस्ट करता हु और ये उम्मीद करता हूँ कि ये आपके लिए सहायक हो। अगर आपको मेरा आर्टिकल पसंद आये तो आप इसे लाइक ,कमेंट अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और आपको मुझे कोई भी सुझाव देना है तो आप मुझे ईमेल भी कर सकते है। मेरा ईमेल एड्रेस है – hindipost.net@gmail.com.
Related posts
BankingHDFC BankICICI Bankonline bankingStartup

10th Pass की मार्कशीट पर Loan कैसे ले?

आप चाहे जितना पढ़ लीजिए मगर अगर आपके हाथ मे Job नहीं रहेगी तब तक आपकी दुनिया की नजरों में कोई अहमियत नहीं रहेगी। Job पाना वैसे भी कोई बच्चों का खेल तो है नहीं।…
Read more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!