Connect with us

Investment

Gold में Invest कैसे करें?

Published

on

दोस्तों हमारे देश भारत को सोने की चिड़िया यूं नहीं कहा जाता था। यहां हमेशा से ही सोना यानी Gold पाया जाता रहा है। आज भी सोने को सबसे कीमती चीज़ो में रखा जाता है। यही नहीं कई देशों की Economy के खेल में भी Gold का महत्वपूर्ण स्थान है।

पुराने ज़माने की अगर बात की जाए तो Economy इसी से ही होती थी तथा Currency में इस का ही इस्तेमाल किया जाता है। इसका भले ही आज के जमाने की Currency में न उपयोग किया जाता हो मगर इसकी कीमत Currency से भी कहीं ज्यादा है। 

जिस तरह से  ज़मीन में Investment करने से आपको अच्छा खासा लाभ होता है और ज़मीन में Investment कभी खराब नहीं जाता है। उसी तरह से ही लोग आजकल Gold में भी Invest करने लगे हैं।

ये एक Long term investment के तौर पर बहुत अच्छा काम करता है। आज नहीं तो कल इससे आपको अच्छा खासा लाभ होता है। Invest portfolio में Gold को एक अतिरिक्त विकल्प के रूप में देखा जाता है।

Investment में इस का उपयोग करने का एक कारण ये भी है कि इसकी तरलता उच्च है। साथ ही जो भी बाज़ार जोखिम होते हैं मुद्रास्फीति वगेरह उनसे भी ये हमे बचा लेता है। 

बहुत से लोगों को लगता है कि इसमें Invest करना बेकार है तथा इससे उन्हें कोई भी फायदा नहीं मिलता है। तो दोस्तों ऐसा नहीं है। Gold से बेहतर Investment भला आप कहां कर पाएंगे।

आप खुद ही सोचिए न आप कोई भी सोने की चीज़ खरीदते हैं और अगर उसको Market में बेचने जाते हैं तो क्या आप कभी खाली हाथ वापस आते हैं? आपको कुछ न कुछ पैसे ज़रूर मिलते हैं।

हां कई बार होता है कि कीमत आपको कम मिलती है। तो इसमें दिक्कत क्या है? आखिर हम किसलिए हैं? आज हम आप सबको बताएंगे कि आप Gold में किस तरह से Invest कर सकते हैं जिससे आपको आगे चलकर Profit हो। आइये जानते हैं।

Gold में कैसे Invest करें?

दोस्तों इसमें Invest करना बहुत ही आसान है। आप कई तरीके अपनाकर इसमें Invest कर सकते हैं तथा लाभ कमा सकते हैं। इसके अलावा कुछ खास तरीके हैं जिनमें आप इसको Invest कर सकते हैं। आज हम उन्हीं कुछ तरीकों को आपको बताने जा रहे हैं-

◆ Gold mining कम्पनियों से Share खरीदें-Investment का ये काफी बेहतर तरीका है। खासकर भारत मे Gold mining कम्पनियों में Invest करना एक बेहतरीन विकल्प है। आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि भारत में करीब 500 Gold mining कम्पनियां हैं।इन कम्पनियों में आप भी चाहें अगर तो Invest कर सकते हैं। इन कम्पनियों की जो Share की कीमत होती है असल मे वो भारत में सोने की कीमत पर Depend करती है। इसके अलावा भी कुछ कारक जैसे उत्पादन लागत आदि भी Returns को Affect करते हैं।

◆ गहने और आभूषण- ये तो सदियों से चला आ रहा एक तरीका है इसमें Invest करने का। आज भी लोग इस तरीके को अपनाए हुए हैं और गहने और आभूषणों में Invest करते हैं। इसमें होता कुछ यूं है कि Investor जाकर Jeweler से गहने और आभूषण खरीद लेता है और फिर उनको कुछ समय बाद वापस करने जाता है। मगर दोस्तों इसमें आपको ज्यादा फायदा नहीं मिलता है। क्योंकि इसमें गहने को बनाने का  Making price आदि चीज़ें शामिल होती है जब आप इसको खरीदते हैं तब। फिर जब आप इसको फिर से बेचने जाते हैं तो आपको ये सब जोड़कर Return नहीं दिया जाता है। इसीलिए इसमें फायदा होने की जगह नुकसान ही होता है। इसीलिए हम आप से यही कहेंगे कि आप इसमें Investment करने से बचें।

◆ Gold coins तथा Gold bar- जो लोग Gold में Invest करने के लिए बहुत ज्यादा उत्साहित हैं। उन लोगों के लिए इससे बेहतर विकल्प भला कौन सा होगा। सोने के गहनों से बेहतर है कि आप लोग इसमें अपना पैसा लगाएं क्योंकि इसमें Making price आदि चीजें शामिल नहीं होती है और Return अच्छा मिल जाता है। वहीं ये तो हम सभी जानते हैं कि जो गहने और आभूषण होते हैं वो 22 कैरट या फिर 18 कैरट Gold के बने होते हैं मगर Gold coins में आपको 24 कैरट Gold मिलता है। आप चाहें तो इन Coins या Bars को Bank या फिर Jewelers से खरीद सकते हैं मगर एक बात ध्यान में रखिएगा कि Bank आप से इनको वापस नहीं लेता है मगर हां Jeweler ज़रूर आप से ये वापस ले लेते हैं।

◆  Gold accumulation plan ( GAP):

अब तो Online चीज़ो का काफी Trend है। ऐसे में आप मोबाइल Wallet जैसे Phone pe, paytm तथा Stock holding corporation of India के Gold rush plan के तहत भी इसको खरीद सकते हैं। इसमें आपको सोने को खरीदने के विकल्प MMTC-PAMP के साथ Safe Gold की भी सुविधा मिलती है।

◆ भारत सरकार द्वारा चलाई गई Scheme सॉवरेन Gold bond में Investment- Investment के लिए ये तो बहुत ही अच्छा विकल्प है। इसमें सोने को एक उत्पादक Asset में बदल दिया जाता है। इसको भारत सरकार ने 5 नवंबर 2015 में पेश किया था। इसे Gold मोनेटाइजेशन Scheme भी कहा जाता है। इसके अंतर्गत आप Bank में सोना रखते हैं और फिर आपको उस रखे सोने पर ब्याज कमाने में सहायता मिलती है।

◆ Gold exchange traded fund ( Gold ETFs )- ये Mutual fund का ही एक प्रकार है। जो लोग Mutual fund को अच्छे से जानते हैं वो इसको आसानी से समझ जाएंगे। इसके लिए आपका DEMAT account होना ज़रूरी है क्योंकि Gold ETF सूचीबद्ध होते हैं तथा Stock exchange में काम करते हैं। इनका उद्देश्य Market में मिलने वाले Physical gold के Return के समान Return देने का होता है। 

◆ Gold fund of funds ( Gold FoFs )- इसको हम सभी Gold mutual fund के नाम से भी जानते हैं। ये एक Open ended  Fund है। इसमें आपको DEMAT account को Open करने की ज़रूरत नहीं होती है। जो लोग सोने की उतनी अच्छी समझ नहीं रखते हैं उन लोगों को यहां कोई परेशानी नहीं होती है। इसे कोई भी आसानी से Handle कर सकता है।

Gold में Invest कब करना चाहिए?

ये काफी महत्वपूर्ण प्रश है। खासकर उन लोगों के लिए जो इसमें नए होते हैं। देखिए सोने की कीमत में कब गिरावट आए कब उछाल आए ये कहना थोड़ा मुश्किल होता है।

अभी कोरोना टाइम में देखा ही होगा आप सबने कि कैसे इसकी कीमत 50,000 के भी पार चली गई थी और अब फिर से कीमत गिर गई है। तो ऐसे में आपको सोने की कीमतों पर हमेशा ध्यान देना होगा।

आपको एक दो नहीं बल्कि इसमें लंबा Investment करना होगा। आप चाहें तो 5 साल या 10 साल तक इसमें Invest कर सकते हैं ताकि आपको Returns अच्छे मिल सके।

सोने की कीमत को बहुत सारी चीजें Affect करती हैं इसीलिए हम इसके Return का पहले से ही कोई अनुमान नहीं लगा सकते हैं।

अब आप सब समझ ही गए होंगे कि Gold में आप कैसे Invest कर सकते हैं।

Investment तो आज हर कोई कर रहा ही रहा है दोस्तों। बस ज़रूरत होती है तो सही जगह चीजों को Invest करने की वरना क्या फायदा आप पैसे भी लगाएं और पैसे डूब जाएं। लेने का देना पड़ जाए। इसीलिए सारी जानकारी लेने के बाद ही आप कहीं भी Investment करें।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!