ComputerGoogle

AWS, Google cloud क्या है और कैसे काम करता है?

AWS, Google cloud क्या है और कैसे काम करता है?

AWS, Google cloud क्या है और कैसे काम करता है? दोस्तों आज Online के इस दौर में भला हम Online shopping को कैसे पीछे छोड़ सकते हैं। अब तो Online business इतना ज्यादा Popular हो गया है कि अब आपके पास एक नहीं बल्कि तमाम Online sites और Apps मौजूद हैं जहां से आप Online चीज़ें Purchase कर सकते हैं। फिर भी चाहे कितनी भी Site आ जाए या चली जाए, लेकिन एक Online shopping app कभी भी पीछे नहीं हटेगा और वो कोई और नहीं बल्कि आप सबका अपना Amazon है।

Amazon पर आपको सब कुछ मिलेगा। ये सच में आप सबकी अपनी दुकान है। अगर आप Amazon से Shopping करते हैं तो आपको कहीं और जाने की ज़रूरत ही नहीं है।

Shopping के अलावा भी Amazon आपको बहुत सारी सुविधाएं प्रदान करता है। ये आपको Digital streaming, cloud computing की सुविधा भी प्रदान करता है जिस तरह से Google अपको Cloud computing की सुविधा देता है। इसीलिए दुनियाभर में Amazon काफी ज्यादा मशहूर है।

Amazon एक ऐसी अमेरिकन E commerce कंपनी है जिसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है। ये एक Multinational technology कंपनी है। इसी के साथ ये कंपनी आपको पैसे कमाने के अवसर भी प्रदान करती है। यही नहीं Amazon की एक और Service भी है जिसे AWS के नाम से जाना जाता है। इसके बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है।

आज इस Post में हम आप सबको Amazon की AWS service के बारे में ही बताने जा रहे हैं और इसी के साथ हम आपको इसमें Google cloud के बारे में भी जानकारी देंगे तथा ये भी बताएंगे कि ये किस तरह से काम करता है। तो फिर चलिए बिना देर किए इसके बारे में जानना शुरू करते हैं।

Amazon AWS क्या है?

Amazon की AWS service एक Secure और Strong cloud service platform है। इसमें आपको Unlimited band width और Customer support के साथ Cloud computing की सुविधा मिलती है। इसका इस्तेमाल दोस्तों आप अपनी Website या App के लिए आसानी से कर सकते हैं।

Cloud solution ने 2006 में Amazon को AWS का Concept दिया था। इसके बाद Amazon ने अपनी IT टीम के साथ मिलकर काम किया और AWS कप तैयार किया। अगर शुरुआत की बात करें तो इसकी जो कीमत थी वो काफी ज्यादा थी और वहीं Band width जो थी वो काफी ज्यादा कम थी। ऐसे में जब कभी कोई इस Service को खरीदता था तो अक्सर क्या होता था कि उसके App या फिर Website पर जो Server रहता था, वो Down ही रहता था।

अब जब Host की Band width ही कम होगी तो फिर ज़ाहिर सी बात है कि लोगों ने जिन्होंने इसे खरीदा होता था उनकी Website पर Band width कम रहती थी। धीरे धीरे फिर Amazon ने इस परेशानी को दूर करने की कोशिश की। इसके बाद इसको Web store का नाम प्रदान किया गया। फिर धीरे धीरे इसका नाम Web store से AWS पड़ गया।

आज दुनियाभर में धड़ल्ले से इसका इस्तेमाल अलग अलग कंपनियों के द्वारा किया जा रहा है लेकिन शुरुआत में जब इसको बनाया गया था तो केवल Amazon ने अपने इस्तेमाल के लिए ही इसे बनाया था। जैसा कि अभी हमने बताया कि आज लगभग हर कंपनी Amazon AWS पर स्विच कर रही है। अब हम सभी के सामने सबसे बड़ा सवाल ये आ जाता है कि आखिर ऐसा क्यों है? आखिर हर कंपनी AWS की तरफ क्यों मुड़ रही है? ऐसा इसलिए क्योंकि ये कंपनी को Grow up करने में काफी मददगार साबित हो रहा है। कंपनियों के Business को Grow करवाने और उनके Scale को बढ़ाने में ये काफी ज्यादा सहायता प्रदान कर रहा है।

इसकी मदद से कोई भी कंपनी या फिर कोई भी Individual व्यक्ति Cloud services यानी कि Remote access service का उपयोग कर सकता है।

इन Services के लिए आपको आपके Time period के हिसाब से और आपके द्वारा ली गई Service के लिए Payment करना होता है।

आज ये दौर आ गया है कि हर कंपनी Amazon AWS पर विश्वास कर रही है और जिन्होंने अभी तक AWS नहीं लिया है, वो भी AWS लेने के लिए एकदम तैयार हैं। और कोई लेना चाहेगा भी क्यों नहीं, आखिर इससे Benefits ही इतने ज्यादा हैं कंपनी को।

इसका इस्तेमाल करके हर कंपनी अपने Resources को तो Save कर ही रही है। साथ ही साथ वो अपना वक़्त और पैसा भी बचा रही हैं।

AWS की Full form क्या है? 

दोस्तों इसकी Full form को जानना भी बेहद आवश्यक है। जब आप इसकी Full form जान लेंगे, उसके बाद आप धीरे धीरे इसके बारे में सब कुछ समझने लगेंगे। AWS का जो Full form है वो Amazon web service है। इसके अंतर्गत जितने भी Web services amazon के द्वारा प्रदान किए जाते हैं, उन्हें रखा गया है।

ये एक Cloud computing platform है। इसके अंतर्गत जो भी Web services आती हैं, उन सबको एक Single web interface की मदद से Online ही Monitor और साथ के साथ Manage भी किया जाता है।

इन Services की जो प्रमुख बात है वो यह है कि इन Services का इस्तेमाल On demand भी किया जा सकता है। On demand का मतलब शायद आप सबको समझ न आया हो। On demand का ये मतलब है कि जितना आपको ज़रूरत है, आप उतना ही इस्तेमाल करिए और Payment भी अपनी उपयोगिता के हिसाब से ही करिए। यही कारण है कि ये काफी ज्यादा Popular हो रहा है।

AWS कौन कौन सी Services प्रदान करता है?

AWS आपको बहुत सारी प्रमुख सेवाएं प्रदान करता है जिसमें Amazon Relational Database Service (Amazon RDS), Amazon Cloud Front, Amazon Elastic Compute Cloud (EC2), Amazon Simple Notification Service (Amazon SNS), Amazon Simple Queue Service (Amazon SNSS) आदि शामिल हैं। 

इसके अलावा AWS आप सबको अन्य और भी ढेर सारी Services प्रदान करता है। इसमें कुल आपको 175 Fully featured services दी जाती हैं जो वाकई में काफी ज्यादा है। इन Services को कोई भी Individual या फिर Group इस्तेमाल कर सकता है।

इसकी कुछ प्रमुख Services निम्न हैं-

◆ Compute service –  इस Computer service के अंदर आप AWS से सर्वर ले सकते हैं। अभी आप को ये बात शायद समझ में न आई हो। चलिए हम इसको थोड़ा और Clear कर देते हैं।

ये तो आप सभी को पता ही होगा न कि हर कंपनी के पास उनका खुद का एक Data center होता है। इसी Data center के अंदर ही सर्वर लगे हुए होते हैं।

किसी भी कंपनी का जो भी Data होता है वो इन Servers में ही Saved रहता है। कंपनी के लिए Server बहुत ज्यादा मायने रखता है। इसीलिए हमेशा इसकी देख रेख ठीक तरह से करनी पड़ती है।

यदि सर्वर खराब हो गया तो सारे Data के Loss होने की चिंता बन जाती है। ऐसे में सर्वर को सही करवाने के लिए कंपनियां लाखों रुपये तक दे देती हैं। तो दोस्तों इन्हीं सब समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए ही कंपनियां क्या करती हैं कि AWS के सर्वर को किराए पर ले लेती है। किराए पर लेने का ये मतलब होता है कि कंपनी को उतना ही पैसा Pay करना पड़ेगा, जितना उसने Use किया, उससे ज्यादा कुछ भी नहीं देना है। 

AWS की भाषा में इन सर्वर्स को EC2 यानी Elastic compute cloud कहा जाता है।

अगर आप अपने Data को किसी दूसरे Data के साथ जोड़ने चाहते हैं तो आपको निम्न तरह की सुविधाएं AWS द्वारा प्राप्त होती हैं –

★ EC2

★ Lightsail

★ Lambda

★ Batch

★ Elastic Beanstalk

★ Serverless Application

★ Repository

★ AWS Outposts

★ EC2 Image Builder

◆ Amazon storage service- अगर कोई आपसे पूछे कि आज इंटरनेट के इस युग में सबसे ज्यादा जरूरी क्या है, तो लगभग सभी का यही जवाब होगा Data, है न? होना भी चाहिए क्योंकि आज Data सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। स्कूल के लिए उनके स्टूडेंट्स का Data, कंपनी के लिए उसके Clients का Data, Hospital के उनके Patients का Data, ये सब कुछ बहुत महत्वपूर्ण है। अब इन Data को Store करने के लिए कोई Source भी तो चाहिए न। तो ऐसे में AWS आपको Data को Store करने की भी सुविधा प्रदान करता है।

आप अपने Data को Store करने के लिए AWS की जिस सुविधा का इस्तेमाल करते हैं, उसे S3 के नाम से जाना जाता है। S3 यानी कि Simple storage service, इसी Service का इस्तेमाल करके आप अपने किसी भी Data को Store कर सकते हो।

अगर आपके पास Storage domain है और आप उस Domain के Data को AWS में Store करना चाहते हैं तो ये आपको बहुत सारी Services storage के लिए प्रदान करता है जैसे –

★ S3

★ EFS

★ FSx

★ S3 Glacier

★ Storage Gateway

★ AWS Backup

◆ Amazon database services- अब कंपनियों में Database management का काम न हो, भला ये कहां संभव है। बहुत सारी कंपनियां हैं जो Database management का काम करती हैं। ऐसे में उन्हें AWS एक बहुत ही उम्दा Database service प्रदान करता है।

AWS की इस Service को Amazon RDS के नाम से भी जाना जाता है। अगर बात करें इसके फुल फॉर्म की तो इसकी फुल फॉर्म है Relational database service, इस Service की मदद से किसी भी Database को Setup करना, उन्हें Operate करना और साथ मे Scale करना बेहद आसान हो जाता है।

इसके तहत आपको निम्न सुविधाएं मिलती हैं-

★ RDS

★ Amazon DocumentDB

★ DynamoDB

★ Amazon QLDB

★ ElastiCache

★ Neptune

★ Amazon Keyspaces

★ Amazon Timestream

◆ Amazon migration and transfer- अभी हम आप सभी को पहले ही बता चुके हैं कि ज्यादातर कंपनियां अपने Data center को शिफ्ट कर रही हैं। ऐसे में अब सब ये सोच रहे होंगे कि कंपनी का जो भी Data है वो Migrate कैसे करता है। तो इसके लिए भी कोई दिक्कत नहीं होने वाली है। क्योंकि AWS में आपको Data transfer करने के लिए भी Services प्रदान की जाती हैं। इन Services में AWS snowball प्रमुख है।

अगर आपके पास एक Migration domain है और आपको उस Domain के Data को एक जगह से दूसरी जगह भेजना है तो आपको ये Services मिल जाती हैं –

★ AWS Migration Hub

★ Application Discovery Service

★ Database Migration Service

★ Server Migration Service

★ AWS Transfer Family

★ AWS Snow Family

★ DataSync

◆ Network and content delivery- अगर दोस्तों आपके पास एक Network और Content delivery domain है, इसका मतलब ये हुआ कि आप अपने Domain के Content को Network की मदद से Migrate करना चाहते हैं तो भी AWS आपको सुविधा प्रदान करता है।

इसके तहत आपको 2 सुविधाएं मिल जाती हैं-

★ AWS cloud front

★ Amazon route 53

◆ Security and identity purpose- अगर आपके पास एक Identity domain है, यानी कि आप अगर अपने Users के Data and जो भी उनकी Identity है उसको Secure रखना चाहते हैं तो इसके लिए भी आपको कुछ सुविधाएं मिल जाती हैं जैसे-

★ AWS IAM

★ AWS KMS

★ AWS shield

◆ Messaging- अगर आपके पास एक Social messaging domain है, और आपके जो Users हैं वो उस Domain का इस्तेमाल करके अपने Messages या Mails को एक जगह से दूसरी जगह भेजते हैं तो इस तरह की चीजों को Host करने के लिए AWS कुछ इस तरह की Service आपको प्रदान करता है –

★ Amazon SQS

★ Amazon SNS

★ Amazon SES

★ Amazon pin point

AWS में Region और Zone क्या होते हैं?

ये अब दुनियाभर के मशहूर हो चुका है। आप जहां कहीं भी हो, कभी भी कहीं से भी आप Amazon की AWS service का उपयोग कर सकते हैं। यही कारण है कि अब Amazon ने हर जगह दुनिया के हर कोने में अपने बड़े बड़े Data center बनाए हुए हैं।

ये Data center बहुत ही ज्यादा Protected हैं। ये हमेशा Users को एक सुरक्षित, और विश्वसनीय Cloud platform प्रदान करने के लिए उपलब्ध रहते हैं।

◆ AWS region क्या होता है?

जैसा कि हमने अभी आपको बताया कि पूरी दुनिया में इनका बोलबाला है। हर जगह इन्होंने अपने Data centers को स्थापित किया हुआ है। ऐसे में इन Centers को Manage और व्यवस्थित करने के लिए Amazon ने अलग अलग Regions या फिर कह लीजिए क्षेत्र को निर्धारित कर दिया है। जैसे कि एक Region अमेरिका है और एक Region India है। इसी तरह से तमाम Regions data centers को व्यवस्थित करने के लिए बनाए गए हैं। 

◆ AWS zone क्या होता है?

किसी भी एक Region को अकेले तो नहीं संभाला जा सकता है। अब मान लीजिए कि एक Region India ही है, तो अब उसको अकेले तो Handle किया जा नहीं सकता है। ऐसे में एक Region में एक या एक से ज्यादा Zones को रखा गया है।

अगर अभी की बात करें तो अभी मुंबई Region में ही 2 Zones रखे गए हैं। आसान शब्दों में अगर समझने की कोशिश करें तो AWS के अंतर्गत पूरे एक क्षेत्र को Region कहा जाता है और वहीं एक Data center को Zone कह दिया जाता है।

AWS के क्या क्या लाभ हैं?

AWS के जो प्रमुख लाभ हैं वो निम्न हैं-

◆ Global leader- Cloud service प्रदान करने की दिशा में ये एक Global leader के तौर पर काम कर रहा है।  Canalys Reports (जो कि एक बहुत ही Famous website है) के अनुसार Q3 2020 में दुनिया की 4 सबसे बड़ी Cloud Service Provide करने वाली कंपनियों के Market Share में AWS 32%, Microsoft 19%, Google Cloud 7% और China की Alibaba Cloud Company 6% हैं!

◆ Flexibility- इस Service का Resource flexibility भी बहुत ज्यादा प्रचलित है। इसका ये अर्थ हुआ कि आप अपनी Businees की ज़रुरत के हिसाब से Scale up या Down होने पर AWS की Services को बढ़ा सकते हैं और घटा भी सकते हैं।

◆ Easy to use- इसका इस्तेमाल कोई भी बड़ी आसानी से कर सकता है। इसको इस्तेमाल करने के लिए आपको बस इंटरनेट की ज़रूरत होगी। उसके बाद आप Online ही बस एक Single terminal से इसको Manage और Monitor कर सकते हैं।

◆ Cost effective- इसके Cost effective होने की खासियत भी इसे काफी ज्यादा Popular बना देती है। इसमें अगर किसी का बिजनेस छोटा भी है तो वो भी इसकी Service का फायदा उठा सकता है। उसके बाद जिस तरह से आपका बिजनेस Grow up करता जाएगा , आप इसकी On demand service को अपना सकते हैं। अगर बात करें तो AWS on premises से 40 प्रतिशत ज्यादा Cost effective होता है। 

◆ No commitment- इसमें आपको किसी भी तरह का कोई Commitment नहीं दिया जाता है। आप जब भी इसमें कोई भी Service लेते हैं तो आप जब चाहें उन्हें समाप्त भी कर सकते हैं। इसमें आपको किसी भी तरह का कोई Commitment नहीं करना होता है। ये आपको किसी भी समयावधि के लिए बांधकर भी नहीं रखता है।

◆ Safe and secure- Security के मामले में भी ये काफी ज्यादा बेहतरीन है। आपके Data को Store करने के लिए और किसी भी अन्य Web service के लिए ये आपको Online ही एक बहुत ही Secure infrastructure प्रदान करता है।

AWS का सुरक्षा Model क्या है?

दोस्तों अभी तक हम ने आपसे Cloud computing की बात की। असल मायने में क्या आप इसका मतलब जानते हैं? दोस्तों Cloud computing का मतलब होता है Data, computing, application, network और पूरे Infrastructure को एक बेहतर Security प्रदान करना।

इसमें जिस Model का इस्तेमाल किया जाता है उसे Distributed security model के नाम से जाना जाता है।  अगर आसान शब्दों में इसे समझने की कोशिश करें तो यह जो Model होता है यह AWS और Customer के बीच Shared होता है। इसका ये मतलब हुआ कि Customer और AWS दोनों की यह जिम्मेदारी होती है कि वो AWS की Security को Maintain करें।

इसके तहत जो Customers होते हैं वो निम्न Services को Security प्रदान करते हैं-

◆ Application

◆ Identity and Access management

◆ Network Traffic Configuration

◆ VM (Virtual Machine)

इसके साथ ही जो AWS होता है वो निम्न Services को सुरक्षा प्रदान करने का काम करता है-

◆ AWS Global Infrastructure

◆ Computers

◆ Storage

◆ Database

◆ Networking

दोस्तों ये तो की हमने आप सभी से अभी AWS की बात। चलिए अब बात करते है Google cloud की। 

Google cloud क्या होता है?

ये आपको Google के द्वारा प्रदान की जाने वाली Cloud computing services का ही एक Suite है। जिस Basic infrastructure का इस्तेमाल Google अपने End user products जैसे कि Gmail, google search, file storage और Youtube को Access करने के लिए करता है, बस उसी Basic infrastructure का इस्तेमाल Google cloud computing के लिए भी करता है।

Google की इस Service की मदद से आप Application, website और Services बना सकते हैं वो भी बिल्कुल Google की संरचना पर। इसके साथ ही आप उन्हें Monitor और Manage भी कर सकते हैं।

Google cloud जो Platform है ये Internet पर Connection के माध्यम से Cloud manager, software developers तथा अन्य किसी भी IT professionals के द्वारा Access किया जा सकता है वो भी बेहद आसानी से।

Google cloud platform काम कैसे करता है?

दोस्तों शायद आप नहीं जानते होंगे कि जो Cloud computing होती है ये किसी छोटे मोटे पैमाने पर काम नहीं करती है, बल्कि ये एक Remotely बड़े पैमाने पर Software और Hardware products को Co exist करने की क्षमता प्रदान करती है।

ये Products एक साथ ही Special services को प्रदान करने का काम करते हैं। इसमें जो भी Users होते हैं वो Web interface की मदद से आवश्यक Tool तक जा सकते हैं। इसके बाद फिर Users उन्हें Use भी कर सकते हैं और Manage भी कर सकते हैं। बस कुछ इसी तरह की जो Services होती हैं, Google cloud भी उन्हें आपको प्रदान करने की कोशिश करता है।

यहां पर Users तमाम तरह की Services तो इस्तेमाल करते ही हैं। साथ ही साथ Users google cloud platform का इस्तेमाल करके अपना समय भी बचा पाते हैं और Flexibility का भी विकल्प उन्हें मिल जाता है।

यहां पर जो भी Users हैं वो अपनी जरूरत के हिसाब से ही Resource को उपयोग कर सकते हैं। इसके साथ ही जो भी User की आवश्यकता होती है, वो उसी के हिसाब से अपना एक Infrastructure create कर सकते हैं।

जब एक बार कोई भी User अपनी Need के हिसाब से इस Service का Selection कर लेते हैं तो उसके बाद Users को फायदा मिल जाता है। फिर वो सहज और Web based Google cloud platform console (जिसे GCP console के नाम से भी जाना जाता है) के माध्यम से अपना Project बना सकते हैं।

जो भी व्यक्ति Project बनाने का काम करता है वो यह भी Select कर सकता है कि कौन कौन व्यक्ति कौन कौन सी Services का उपयोग कर सकता है।

Google cloud platform की कुछ बेहतर Services –

इसमें आपको Storage, networking, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, Machine learning के साथ बहुत सारी अन्य सुविधा भी मिलती है जैसे Security, Cloud का प्रबंधन, Developer को सेवाएं प्रदान करना आदि।

इसकी बेहतर जो Services हैं वो निम्न हैं-

◆ Google container engine- ये जो Google container engine है, ये Google Kubernetes Container Orchestration Engine पर Base है। ये Google के सार्वजनिक Cloud के अंदर चलने वाले डॉकर Containers के लिए एक प्रबंधन सिस्टम है।

◆ Google cloud storage- ये एक बहुत बड़ा Cloud storage platform है। यहां पर असंरचित Data set को Store किया जाता है। इसको इसी Purpose के लिए ही Design किया गया है।

◆ Google app engine- ये जो भी Software developers हैं उन्हें Google की स्केलेबल Hosting तक पहुंच प्रदान करने का काम करता है। इसके अलावा App engine पर चलने वाले Software products को Develop करने के लिए Software developers SDK यानी Software developer kit का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

◆ Google compute engine- ये आधारभूत संरचना Google cloud की ही एक Service है। ये Users को Work load hosting के लिए Virtual machine इंस्टेन्स को प्रदान करता है।

Google cloud platform की अन्य High level services –

Big data और Machine learning से जोड़ने के लिए Google cloud अपनी Services में और भी High level services को Users के लिए Available रखता है।

ये जो Services हैं वो निम्न हैं-

◆ इंटरनेट ऑफ थिंग्स- ये इंटरनेट ऑफ थिंग्स यानी IoT के लिए भी सेवाएं प्रदान करता है। इसमें Google cloud IoT core भी शामिल है। ये असल में एक Managed services की सीरीज है। ये Users को IoT उपकरणों से Data को Manage करने और उन्हें इस्तेमाल करने में सक्षम बना देती है।

◆ Artificial intelligence– Google जो है वो AI के लिए Cloud machine learning इंजन प्रदान करता है। ये कुछ और नहीं बल्कि एक Service है जो Users को Machine learning model में सक्षम बनाने का काम करती है। इसके अलावा Videos, images और Speech के लिए अलग अलग API भी उपलब्ध हैं।

◆ Data processing– Google की प्रमुख Services में Analytics और Data processing भी शामिल है। इसी के साथ ही दोस्तों Google क्लाउड data flow एक ऐसी Service है जो Users के लिए Data को Process करने की सुविधा प्रदान करती है।

दोस्तों जो Google का Cloud suite है वो लगातार Develop हो रहा है। जैसे जैसे Users की Demand और कॉम्पिटीशन बढ़ता जा रहा है वैसे ही वैसे इसकी Services भी बढ़ती जा रही हैं और बेहतर भी हो रही हैं।

Google cloud कितना सुरक्षित है?

जब एक बार आपका जो भी Data होता है वो Google के पास आता है तो उस Data को सुरक्षित रखने के लिए Cloud server के अंदर ही Encrypt किया जाता है।

अपने सभी Data के लिए Google 128 bit एईएस Encryption का इस्तेमाल करता है। वहीं अगर 256 bit encryption के रूप में इसका इस्तेमाल किया जाएगा तो यह मजबूत और सुरक्षित नहीं होगा।

Google cloud platform का Pricing option क्या है?

जैसे बाकी सारी Cloud services होती हैं ठीक वैसे ही Google की Cloud service भी है। ये आपको Pay as you go वाला ही System follow करवाती है। इसका ये मतलब होता है कि आपको केवल उतना ही Pay करना होता है जितना आप इस्तेमाल करते हैं। उससे ज्यादा आपको कोई भी भुगतान नहीं करना होता है। मगर हां एक बात ध्यान में रखिएगा की इसमें अलग अलग Services का Price अलग अलग होता है।

AWS और Google cloud में कौन सा बेहतर है?

दोस्तों जो AWS है, उसको Amazon ने Develop किया है और ये एक प्रबंधित सुरक्षित Cloud है। वहीं जो Google cloud है वो Google के सार्वजनिक Cloud computing resources और Services का एक Suite होता है।

जो AWS होता है वो Cloud based disaster recovery services प्रदान करता है वहीं जो Google होता है वो Backup services प्रदान करने का काम करता है।

दोस्तों तो ये थी AWS और Google cloud से जुड़ी सारी जानकारी। अब आप सब समझ ही गए होंगे कि ये दोनों क्या होता है।

दोनों ही आपको बेहतर Service प्रदान करने का काम करते हैं और Pay as you go नियम का पालन करते हैं। अब ये आप पर निर्भर करता है कि आप कौन सी Service का इस्तेमाल करना चाहते हैं क्योंकि ही दोनों ही Safe and secure हैं और काफी ज्यादा Efficient भी हैं।

सम्बंधित लेख :

About author

Articles

मैं अपने इस ब्लॉग पे इंटरनेट, मोबाइल, कंप्यूटर कैर्रिएर से रिलेटेड आर्टिकल पोस्ट करता हु और ये उम्मीद करता हूँ कि ये आपके लिए सहायक हो। अगर आपको मेरा आर्टिकल पसंद आये तो आप इसे लाइक ,कमेंट अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और आपको मुझे कोई भी सुझाव देना है तो आप मुझे ईमेल भी कर सकते है। मेरा ईमेल एड्रेस है – hindipost.net@gmail.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!