CA क्या हैं, CA क्यों करें, CA कैसे करें ?





CA क्या हैं , CA क्यों करें, CA कैसे करें, CA के बाद कैरियर ऑप्शन (What is CA, Why to pursue CA,  How to pursue CA and career options after CA)?

मैंने अपने पिछले आर्टकिल में आपको बताया कि

होटल मैनेजमेंट क्या हैं, होटल मैनेजमेंट कैसे करें, और होटल मैनेजमेंट क्यों करें

MBA क्या हैं, MBA कैसे करे, और MBA क्यों करें  

CA (Chartered Accountant) बनने की ख्वाहिश सिर्फ जुनूनी स्टडेंट्स ही रख सकते है, क्योकि इसमें अगर आपके पास मेहनत करने की क्षमता अधिक है तो आपको CA बनने से कोई रोक नहीं सकता।

अधिकतर कॉमर्स स्ट्रीम के छात्र छात्राये आगे करियर के चुनाव में CA बनने की चाहत रखते हैं।

Chartered Accountancy एक कोर्स हैं जिसे करने के लिए आपमें संयम होना आवश्यक हैं ।

यह एक Professional कोर्स हैं जिसे ICAI (The Institute of Chartered Accountants of India) द्वारा संचलित किया जाता हैं।



CA क्या हैं (What is CA):

Chartered Accountancy में Auditing, Accounting, Taxation, Budget, corporate finance, project evaluation आदि देखने का काम CA करते हैं।

एक तरह से हम ऐसा बोल सकते हैं की CA कंपनी के Back Bone होते हैं जो कंपनी के finance को सँभालते हैं।

CA कोर्स तीन स्तरों में विभाजित हैं, CA करने के लिए आपको इन तीनों स्तरों से होकर गुजरना पड़ेगा जैसे –

  1. CPT (Common Proficiency Test)
  2. IPCC (Integrated Professional Competence Course)
  3. CA Final Course

CPT (Common Proficiency Test):

CPT एक entry level एग्जाम हैं, CA करने के लिए CPT एग्जाम पहला level हैं।

10 वीं के बाद ही आप CPT के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं लेकिन 12 वीं के बाद ही एग्जाम दे सकते हैं।

आइये जानते हैं CPT Exam की कुछ खास बातें:

  • यह एग्जाम पूरे 200 मार्क्स का होता हैं तथा इसमें negative marking होते हैं जिसमें हर के गलत उत्तर के लिए25 मार्क्स काट लिए जाते हैं।
  • CPT एग्जाम पास करने के लिए प्रत्येक विषय में 30 प्रतिशत अंक आना आवश्यक हैं तथा पूरे एग्जाम में 50 प्रतिशत अंक आने चाहिए।
  • CPT की एग्जाम दो सत्र (Session) में ली जाती हैं।





Syllabus

  • Paper 1: Fundamentals of Accounting
  • Paper 2: Mercantile Laws
  • Paper 3: General Economics
  • Paper 4: Quantitative Aptitude

IPCC (Integrated Professional Competence Course)

IPCC, CPT के बाद दूसरे लेवल (level) में आती हैं।

IPCC करने के लिए CPT पास करना होगा नहीं तो अगर आपके ग्रेजुएशन में 55 प्रतिशत अंक हैं तो आप direct IPCC में entry पा सकते हैं।

  • IPCC में 2 ग्रुप होते हैं,पहला ग्रुप clear करने के बाद आप 3 साल की Article ship Training ले सकते हैं, जिन्हे आगे जाकर प्रैक्टिस करना हैं ।
  • 100 घंटे का Information Technology Training करने की जरुरत हैं ।
  • 35 घंटे Orientation Course करने की आवश्यकता पड़ती हैं ।
  • Registration date से पुरे 9-month का कोर्स होता हैं ।

Syllabus :

Group I

Paper 1: Accounting (100 marks)

Paper 2: Business Laws, Ethics and Communication (100 marks)

  • Part I: Business Laws (60 marks) comprising
  1. Business Laws (30 marks)
  2. Company Law (30 marks)
  • Part II: Ethics (20 marks)
  • Part III: Communication (20 marks)

Paper 3: Cost Accounting and Financial Management (100 marks)

  • Part I: Cost Accounting (50 marks)
  • Part II: Financial Management (50 marks)

Paper 4: Taxation (100 marks)

  • Part I: Income-tax (50 marks)
  • Part II: Indirect Taxes (50 marks)

Group II

Paper 5: Advanced accounting (100 marks)

Paper 6: Auditing and Assurance (100 marks)

Paper 7: Information Technology and Strategic Management (100 marks)

  • Section A: Information Technology (50 marks)
  • Section B: Strategic Management (50 marks)




CA Final Course:

CA final कोर्स last level हैं जिसमें IPCC के दोनों ग्रुप clear होने के बाद ही आप CA फाइनल के लिए खुद को रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं ।

  • 3 साल की Article ship Training पूरी होनी चाहिए ।
  • CA final स्टेज में खुद को Chartered Accountant के रूप में designate करना होता हैं ।
  • 15 दिन का GMCS (General Management and Communication Skills) complete करना पड़ता हैं ।

Syllabus:

Paper 1– Financial Reporting

Paper 2– Strategic Financial Accounting Management

Paper 3– Advanced Auditing and Professional Ethics

Paper 4– Corporate and Economic Laws

Paper 5 – Strategic Cost Management and Performance Evaluation

Paper 6A – Risk Management

Paper 6B  – Financial Services and Capital Markets

Paper 6C– International Taxation

Paper 6D – Economic Laws

Paper 6E – Global Financial Reporting Standards

Paper 6F – Multidisciplinary Case Study

Paper 7 – Direct Tax Laws and International Taxation

Paper 8 – Indirect Tax Laws

CA क्यों करे (Why pursue CA):





CA क्यों करे? वैसे तो इसके कई उत्तर हो सकते हैं, लेकिन इस आर्टिकल में हम जानेंगे की CA बनना स्टूडेंट्स क्यों चाहते हैं और इसे क्यों कर े?

  • कुछ स्टूडेंट्स CA इसलिए भी करना चाहते हैं, क्योकि CA बनने के बाद नाम के आगे Chartered Accountant जिसका अपना एक आदर सम्मान होता हैं ।
  • जिनकी रूचि Accounts, Auditing, Corporate Finance, Taxation, Projection, Financial Analysis आदि में हैं, वे लोग Chartered Accountant बनना चाहते हैं ।
  • अगर आप नौकरी के शुरुवात में ही अच्छी सैलरी चाहते हैं तो CAएक अच्छा profession हैं ।
  • इस में खास बात यह भी हैं की आप अगर नौकरी नहीं भी करना चाहते तो खुद प्रैक्टिस कर सकते हैं या फिर entrepreneur बन सकते हैं ।
  • CA कोर्स के द्वारा आप कंपनी के सबसे ऊंचे पद पर जा सकते हैं जैसे Chief Accountant, Chief Financial Officer (CFO).
  • वैसे तो CA कोर्स वे ही कर सकते हैं, जिनके अंदर analytical thinking मौजूद हो लेकिन यह कोर्स काफी लम्बे अवधि का होता हैं, जिसमें आपके अंदर और भी skills develop होता हैं जैसे Leadership Skills, Communication Skills, Problem-Solving Skills, Self-Motivation, Positive thinker आदि ।

CA कैसे करे ( How to pursue CA):

CA करने के लिए आपको निचे दिए गए कुछ steps follow करने की जरुरत हैं जैसे –

Step 1 –  

CA के लिए आपको 12 वीं या फिर ग्रेजुएशन (Graduation) पास होना अनिवार्य हैं ।

Step 2 –

अगर आप 12 वीं पास हैं तो CPT एग्जाम और अगर आप ग्रेजुएशन 50 प्रतिशत अंक के साथ पास हैं तो आप IPCC में direct entry ले सकते हैं ।

Step 3-

Level के अनुसार आपको ट्रैंनिंग Article ship Training लेने की जरुरत हैं साथ ही साथ कोर्स complete होने के बाद जॉब के लिए अप्लाई करने की जरुरत हैं।



CA के बाद करियर ऑप्शन ( Career options after CA):

CA बनने के बाद आप करियर के रूप में तीन option का चुनाव कर सकते हैं –

Practice– CA बनने के बाद आप अपने रूचि के अनुसार Auditing Assurance, Tax Consultant, Business Valuation, Financial Reporting के ऊपर प्रैक्टिस कर सकते हैं ।

Entrepreneur – Entrepreneur के रूप में CA Managing Director, Finance Director, Executor बनते हैं ।

Job – CA बनने के बाद आप जॉब के रूप में Chief Financial Officer, Chief Accountant, Chief Manager-Audit, Advisor, Professor बन सकते हैं ।

दोस्तों आज के इस पोस्ट में मैंने आपको बताया कि CA क्या है, CA क्यों करें, CA कैसे करें, CA के बाद कैरियर ऑप्शन (What is CA, Why to pursue CA,  How to pursue CA and career options after CA).

आपको ये पोस्ट कैसा लगा आप मुझे अपना फीडबैक कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *