पब्लिक स्पीकिंग कैसे करें -Public speaking tips in Hindi





दोस्तों पब्लिक स्पीकिंग स्कील बहुत जरूरी है। आपको बहुत से मौको पे या फंक्शन में लोगो के बीच में बोलने का मौका मिलता है। जैसेकि किसी टॉपिक पे बोलना, डिबेट करना, ग्रुप डिस्कशन करना, लोगो को बधाई देना इत्यादि। ऐसे में आपको पता होना चाहिए कि पब्लिक स्पीकिंग कैसे करें  -Public speaking tips in Hindi.

पब्लिक स्पीकिंग कैसे करें(Public speaking tips in Hindi):

पब्लिक स्पीकिंग एक कला हैं,कुछ समूहों के बीच किसी प्रमुख विषय के ऊपर अपने विचार को प्रकट करना ही पब्लिक स्पीकिंग कहलाता हैं, हालांकि कुछ लोगों को पब्लिक स्पीकिंग से काफी डर भी लगता हैं।

इसके लिए इस आर्टिकल के द्वारा आप जान पाएंगे की एक पब्लिक स्पीकिंग कैसे करें, अच्छा पब्लिक स्पीकर बनने के लिए आपको क्या -क्या करना आवश्यक हैं।

Related posts:

एक अच्छा पब्लिक स्पीकर बनने के लिए आपको काफी कुछ तैयारी करने की आवश्यकता पड़ेगी जैसे –

विषय का ज्ञान होना:





स्पीच (Speech) देने के लिए विषय का अच्छा ज्ञान होना आवश्यक हैं, स्पीच देने से पहले कोशिश करें की उस विषय के बारे में गूगल,किताबों तथा अखबारों से सूचना एकत्र कर लें। एकत्र किये गए सूचनाओं से एक अच्छा स्पीच तैयार करें। एक अच्छा वक्ता वही होता हैं जिसे अपने दिए गए विषय का पूरा ज्ञान हो।

बोलने की प्रैक्टिस करें:

समूहों के बीच जाकर बोलने से पहले प्रैक्टिस करना बहुत ही जरुरी हैं ,ऐसा करने से आपके अंदर आत्मविश्वास बढ़ेगी। जैसा की हमने आपको बताया एक अच्छा स्पीच तैयार करें,तैयार किये गए स्पीच को लेकर बोलने की प्रैक्टिस करें।

आत्मविश्वास का होना:

पब्लिक स्पीकर बनने के लिए सबसे जरुरी बात यह हैं की आपमें आत्मविश्वास होना चाहिए । आत्मविश्वास बने रहने के लिए आवश्यक हैं की आपने अपनी प्रैक्टिस अच्छी तरह से की हो। स्पीच देते वक़्त पब्लिक के सामने आपका भरपूर आत्मविश्वास बना रहना चाहिए।

Eye Contact बनांना:

स्पीच देते वक़्त जरुरी हैं की आप audience से eye contact बनाये रखे इससे आपके audience का ध्यान आपके स्पीच पर रहता हैं और आपको उनकी प्रतिक्रिया मिलती रहती हैं। Eye contact करते वक़्त जरुरी हैं की आप सभी audience group को समान रूप से देखे,ऐसा करने से audience से अच्छी प्रतिक्रिया आपको मिलेगी।

साधारण भाषा का प्रयोग:





अच्छा वक्ता बनने के लिए आवश्यक हैं की आप आपने audience को समझे और उसी प्रकार सरल और साधारण भाषा का प्रयोग करे। जितना सरल भाषा का आप प्रयोग करेंगे आपकी पब्लिक स्पीकिंग उतनी ही कमाल की होगी।

Audience को जानना:

एक सफल वक्ता बनने के लिए आवश्यक हैं की आप आपने Audience को समझे,उनसे जुड़ने की कोशिश करे। स्पीच के दौरान सामने बैठे ऑडियंस को जानने की कोशिश करे ताकि आप ऑडियंस के साथ संपर्क में आ सके और स्पीच के दौरान एक माहौल बन जाए।

आवाज सही रखे:

एक वक्ता के लिए यह भी बहुत महत्वपूर्ण हैं की स्पीच बोलते वक़्त आवाज इतनी होनी चाहिए जिससे हॉल में बैठे सारे ऑडियंस तक आवाज पहुंच सके। आवाज का सही होना इसलिए आवश्यक हैं क्योकि अगर वक्ता की आवाज धीरे होगी तो ऑडियंस को उस स्पीच में रूचि नहीं आएगी।

संयम बनाये रखे:





एक कुशल तथा अच्छे वक्ता के अंदर संयम का होना आवश्यक हैं, क्योकि अगर आप आपने स्पीच के दौरन संयम रहते हैं तो आप आपने स्पीच को Audience के सामने अच्छी तरह बोल पाएंगे। स्पीच बोलते वक़्त आपके बातों में ठहराव होना ही चाहिए जिससे Audience को भी आपकी स्पीच सुनने में अच्छी लगे ।

बहुत बड़ी स्पीच न बोले:





एक अच्छे वक्ता के लिए यह महत्वपूर्ण हैं की स्पीच तैयार करते वक़्त ध्यान रहे की स्पीच छोटी हो और उस स्पीच से आप ज्यादा से ज्यादा सूचना आपने Audience तक पंहुचा सके ।स्पीच छोटी तथा सूचनाप्रद रहे तो Audience का ध्यान लगातार आप पर बना रहेगा।

  बिना देखे स्पीच बोले:

अच्छी स्पीच देने के लिए Audience से जुड़ना आवश्यक हैं और इसके लिए बिना देखे स्पीच दे ।बिना देखे स्पीच देने के लिए आपकी प्रैक्टिस अच्छी तरह होनी चाहिए ।पूरी स्पीच देखकर न बोले इससे Audience को आपके स्पीच में कम रूचि दिखाई देगी और उनको लगेगा आप स्पीच देने नहीं बल्कि पढ़ने आए हैं ।

जल्दबाजी न करे:

अच्छे वक्ता धर्यपूर्ण कम करते हैं इसलिए स्पीच जल्द खत्म करने के लिए जल्दबाजी न करे संयम से काम ले और सही समय पर ही स्पीच खत्म करे इसके लिए पहले से आपकी प्रैक्टिस अच्छी होनी चाहिए तभी आप सही वक़्त पर पूरी स्पीच पूरी कर पाएंगे ।

सकरात्मक बातों को ही शामिल करे:

स्पीच बोलते वक़्त यह ध्यान रहे की आप सिर्फ सकरात्मक बातों का ही प्रयोग कर रहे हैं और किसी भी प्रकार के नकरात्मक वाले बातों पर न जाये । सकरात्मक बातों से Audience के ऊपर काफी अच्छा प्रभाव पड़ता हैं ।

Body Language सही रखे :

एक अच्छे वक्ता की यह भी पहचान होती हैं की उनकी body language स्पीच देने के दौरन बिलकुल सही हो जिससे Audience के ऊपर वक्ता का अच्छा प्रभाव पड़ सके । वक्ता का body language इसलिए महत्वपूर्ण हैं क्योकि इससे Audience आपके स्पीच से जुड़ने के साथ-साथ आपसे भी जुड़ जाते हैं ।

चेहरे पर मुस्कान रखे:

स्पीच देने के दौरन आपके चेहरे पर हंसी होनी बहुत जरुरी हैं,क्योकि Audience को खुद के साथ जोड़ना इतना आसान काम नहीं हैं इसलिए आपकी हंसी Audience को सकरात्मक रूप से आपके स्पीच के साथ जोड़ने का काम करेगी तथा माहौल काफी अच्छा बना रहेगा ।

अंत का अच्छा होना:

किसी भी कार्य की शुरुवात विशेष हैं तो अंत भी उतना ही महत्व रखता हैं, स्पीच का अंत अच्छा हो इसलिए स्पीच में विषय से  सम्बंधित कुछ अच्छे-अच्छे कोट्स अथवा वाक्य जोड़िये ताकि भाषण का अंत अच्छा हो सके।

इस आर्टिकल के द्वारा आपने जाना कि पब्लिक स्पीकिंग कैसे करें।

उम्मीद करता हु की जिनके अंदर इस विषय को लेकर काफी डर हैं वह खतम हो गया होगा। क्योकि विशेष तैयारी के बाद आप भविष्य में एक सफल पब्लिक स्पीकर भी बन सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *