ट्रैवल एजेंसी का बिजनेस कैसे शुरू करें-कम्पलीट गाइड





ट्रैवल एजेंसी का बिजनेस कैसे शुरू करें-कम्पलीट गाइड

घूमना किसी पसंद नहीं आता लेकिन ट्रैवल करना आपका पैशन है तो क्यूं न ट्रैवल को आप अपना बिजनेस बना लें।

इस बिजनेस में न केवल आप न केवल घूमना प्लान करते हैं बल्कि इंजॉय करते हैं।

ट्रैवल एजेंसी का बिजनेस में बहुत काम्पिटीशन है, इस बिजनेस की सफलता के पीछे सबसे बड़ा कारण है आप किस तरह का ट्रैवलिंग चुनते हैं।

अगर आगे बढ़ना चाहते हैं तो मार्केट पर रिसर्च करें अपना ब्रांड बनाएं और मार्केंटिंग करें।

आप कुछ बड़े ट्रैवल एजेंट से बात कर सकते हैं जो आपको इस बिजनेस में आगे बढ़ने के तरीके के बारे में बताते हैं। 

ट्रैवल एजेंसी का बिजनेस कैसे शुरू करें:





तो दोस्तों चलिए फिर आज के इस पोस्ट के जरिये आपको ये बताता हु कि खुद ट्रैवल एजेंसी का बिजनेस कैसे शुरू करें।

मार्केट पर रिसर्च करें और अपनी पसंद चुनें:





सबसे पहले आप रिसर्च करें कि किस तरह की ट्रैवल एजेंसी खोलना चाहते हैं।

आप अपने आसपास का मौहाल देख कर भी ट्रैवल एजेंसी का चुनाव कर सकता है।

आप चाहे तो एडवेंचर डस्टिनेशन प्लान कर सकते हैं या लोगों हनीमून ट्रिप प्लान करने में उनकी मदद करें।

इसके अलावा आप रिलिजियस ट्रैवल एजेंसी भी खोल सकते हैं जो भक्तों को प्रिय धार्मिक स्थलों पर पहुंचाएगी। 

इस तरह आप किस तरह की ट्रैवल एजेंसी खोलना चाहते हैं, आपके साथ मार्केट में काम्पीटिशन करने के लिए कौन से खिलाड़ी है और आपके लिए आइडल कस्टमर कौन है इस पर भी ध्यान दें।

ट्रैवल से जुड़े लीगल पहलूओं पर भी ध्यान दें:

ट्रैवल एंजेसी खोलने में बहुत से लीगल बातों पर ध्यान देना पड़ता है इसलिए बेहतर होगा कि आप कानूनी बारीकियों को भी जानें।



सबसे पहले आपको एक खास तरह के लाइसेंस या सर्टिफिकेट की जरूरत होगी जो अलग-अलग देशों में अलग तरीके से मिलती है।

इसमें देश और राज्य दोनों से सर्टिफिकेट लेना होता है। 

आपको अपनी कम्पनी को कम्पनी एक्ट के तहत रजिस्टर करने की जरूरत होती है। साथ में आपकी कम्पनी को जीएसटी रजिसट्रेशन की भी जरूरत पड़ती है।

यही नहीं आपको International Air Transport Association में भी एप्लीकेशन देना होता है।

आपको 100-150 square feet के ऑफिस की भी जरूरत होती है। IATA के साथ होने पर आपके बिजनेस को अधिक मौका मिलता है। 

ट्रैवल एजेंसी खोलने के लिए जगह खोजें और स्टॉफ रखें:

ट्रैवल एजेंसी खोलने में जगह का खास महत्व है। आप एक अच्छी जगह खोजें और अपना ऑफिस बनाएं।

लेकिन अगर आप अपनी सर्विस 24X7 जारी रखना चाहते हैं तो आप घर से ही अपनी ट्रैवल एजेंसी चला सकते हैं।

इसके अलावा आपको अच्छे स्टॉफ भी रखने होंगे।

आपके इसके लिए ट्रैवल और टूरिज्म प्रोफेशनल को भी रख सकते हैं।

ये प्रोफेशेनल आपको क्या करें और क्या नहीं करें के बारे में अच्छी सलाह देते हैं।

इस टूरिज्म प्रोफेशनल्स की सलाह से आपका बिजनेस बहुत आगे बढ़ेगा।

इस प्रोफेशनल्स को रियल वलर्ड में बहुत अनुभव होता है जो आपके बिजनेस को आगे बढ़ाएगे। 

बड़े ट्रैवल एजेंट से बात करें:

ट्रैवल एजेंसी के क्षेत्र में बड़े बिजनेसमैन से मिले वे अपने अनुभव आपको जरूर बताएंगे।

उनके अनुभवों से आपको बहुत फायदा होगा।

बिजनेस के शुरूआती दिनों में आप उन लोगों से मिलकर अच्छे सम्बन्ध बनाएं और उनसे सलाह मांगें। 

अपनी ट्रैवल एजेंसी लांच करें:





अब मौका आ गया है आप अपनी ट्रैवल एजेंसी लांच करें। एजेंसी लांच करने के बाद उसका प्रचार करें।

प्रचार करने में paid advertisement की बहुत वैल्यू है।

लेकिन सोशल मीडिया भी आपको अपनी एजेंसी का प्रचार करने में बहुत मददगार साबित होती है। 

आपकी मार्केटिंग रणनीति इस बात पर निर्भर करती है कि आप किस तरह की ट्रैवल एजेंसी चला रहे हैं। 

अपनी फंडिंग रणनीति भी बनाएं:

 इस बिजनेस को शुरू करने में बहुत कम खर्चे हैं। जब ट्रैवल एंजेसी शुरू होती है तब केवल  थोड़े से स्टॉफ की जरूरत है और कम खर्चे होते हैं।

आप बहुत भाग्यशाली हैं कि आपके बिजनेस का बजट बहुत कम है। आपको बिजनेस के शुरूआत में न तो बहुत अधिक सामान खरीदने की जरूरत होगी और न ही आपको जगह पर अधिक खर्च करना होगा।

आपको अगर कुछ चीजों पर पैसे खर्च करने होंगे तो वह है बिजनेस वेबसाइट्स, पोस्टरस, बिजनेस कार्ड से जुड़ी चीजें।

अगर किसी मैटिरियल पर खर्च होगा तो वह है आफिस रेंट पर लेना और कर्मचारियों को रखना।

बहुत से ट्रैवल एजेंसियां self-funded होती है। लेकिन अगर आप लोन लेना चाहते हैं तो बैंक से लोन ले सकते हैं।

ट्रैवल एजेंसी का ब्रैंड बनाएं:





आप ट्रैवल एजेंसी के क्षेत्र में हैं जहां बहुत ज्यादा काम्पीटिशन होता है।

इसके लिए अपनी कस्टमर की जरूरतों के हिसाब से वेबसाइट बनाएं, प्रचार करें और अपनी सर्विस में सुधार करें।

इन चीजों के साथ आप अपनी एजेंसी का ब्रांड भी मजबूत बनाएं। कोशिश करें ट्रैवल एजेंसी की अच्छी टैग लाइन हो। 

आपके ब्रांड रणनीति की पहली लाइन होनी चाहिए कि आप कौन हैं, इस बात को गहराई से सोचें भी कुछ अच्छा सा ब्रांड बनाएं जिससे आपका बिजनेस तेजी से आगे बढ़े। 

मूर्वस एंड पैकर्स बने:

जी हां यह आपके लिए एक फायदे का सौदा हो सकता है। भारत में अधिकांश लोग किराए के घरों में रहते हैं।

किराए के घर से कई बार दूसरे किराए के घर में शिप्ट होते हैं और कई बार वह अपने घर में भी जाते हैं।

ऐसी महानगरीय लाइफ स्टाइल में पति-पत्नी दोनों ही कामकाजी हों तो शिफ्टिंग का काम अकेले होना मुश्किल होता है।

ऐसे में उन्हें कुछ लोगों की जरूरत होती हैं। आप उनकी उस जरूरत का फायदा उठाएं और उनकी शिफ्टिंग के काम में मदद करें।

इसके लिए आपको ज्यादा चीजों की जरूरत नहीं होती है।

 आप अपने कुछ स्टॉफ रखें उन्हें भेज कर सामान पैक कराएं।

साथ ही शिफ्ट करने वालों की जरूरत के मुताबिक कोई बड़ा या छोटा ट्रक रख लें।

इस तरह सामान पैक कर दूसरी जगह पहुंचाकर आप पैसे कमाएं। 

कम निवेश में अधिक कमाएं:





भारत में ट्रैवल एजेंसी का बिजनेस लो बजट का है आप 50,000 रुपए इन्वेस्ट कर रोज 5000 रुपए तक कमा सकते हैं।

आप शुरूआत में छोटा आफिस लें, एक कम्प्यूटर और एक टेबल लेकर उससे काम चलाएं।

अपना बिजनेस रिजस्टर करने में 4,000 रुपए तक लगते हैं।

आपको अपने बिजनेस का प्रचार करना भी सस्ता ही पड़ता है इसलिए यहां पैसे कम लगेंगे और फायदे ज्यादा होंगे।

तो दोस्तों आज के इस पोस्ट में हमने जाना कि ट्रैवल एजेंसी का बिजनेस कैसे शुरू करें-कम्पलीट गाइड।

उम्मीद करता हु कि आपको ये पोस्ट पसंद आया होगा।

अगर आपको खुद का ट्रैवेल एजेंसी का बिज़नेस शुरू करने को लेकर कोई सुझाव है, तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *