Connect with us

Banking

एजुकेशन लोन क्या होता है, एजुकेशन लोन कैसे लिया जाता है?

Published

on




एजुकेशन लोन क्या होता है, एजुकेशन लोन कैसे लिया जाता है?

अच्छी एजुकेशन पाने की इच्छा किसे नहीं होती है लेकिन आजकल एजुकेशन की फीस काफी महंगी होती जा रही हैं, जिसके कारण अच्छे छात्र तथा छात्राओं को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता हैं।

Related posts:

बच्चे अच्छी शिक्षा पाने के लिए देश या फिर विदेशों में जाकर पढ़ाई करना चाहते हैं ताकि उनके सपने पूरे हो सके ऐसे में उनके पास एजुकेशन लोन एक अच्छा विकल्प हैं,जिसके सहारे वे अपनी शिक्षा को आगे बढ़ा सकते हैं। कुछ बैंक तथा अन्य संस्थाएँ बच्चों को ऋण देने में सक्षम हैं जिसे एजुकेशन लोन के नाम से जाना जाता हैं। इस आर्टिकल द्वारा हम एजुकेशन लोन के बारे में विस्तारपूर्वक जानेंगे क्योकि एजुकेशन लोन के लिए बहुत सारी शर्ते मौजूद होती हैं जिसका पालन करना अति आवश्यक हैं।

एजुकेशन लोन क्या होता है:

एजुकेशन लोन बैंक या अन्य वित्तीय संस्थाओं द्वारा विद्यार्थी के आगे के पढ़ाई के लिए दी जाती हैं। बैंक कुछ दस्तावेजों के साथ कम ब्याज पर विद्यार्थीयो को लोन देने में सहायक हैं।



एजुकेशन लोन के कुछ प्रकार इस तरह से हैं –

  • पूर्वस्नातक के लिए लोन 12 वीं पास करने के बाद जो छात्र-छात्राएं अपनी शिक्षा आगे 3 से 4 साल तक करना चाहते हैं, वे इस लोन के अंतर्गत आते हैं।
  • स्नातक के लिए लोन इस लोन के अप्लाई के लिए विद्यार्थी का ग्रेजुएट होना अति महत्वपूर्ण हैं। पूर्वस्नातक की पढ़ाई के बाद देश या विदेश में आगे की शिक्षा के लिए विद्यार्थी इस लोन को पाने की कोशिश करते हैं।
  • करियर के लिए लोन ट्रेडिंग तथा टेक्निकल क्षेत्र में करियर बनाने के लिए यह लोन इच्छुक छात्र तथा छात्राओं को दिया जाता हैं ।
  • अभिभावक के लिए लोन यह लोन उन अभिभावकों के लिए हैं जो अपने बच्चों की फीस नहीं दे सकते ऐसे में वे बैंक से लोन के लिए अप्लाई करके अपने बच्चों के पढ़ाई के खर्चे को उठा सकते हैं ।

एजुकेशन लोन क्यों लें:

एक विद्यार्थी द्वारा एजुकेशन लोन लेने के बहुत सारे कारण हैं जैसे:

  • इस लोन के द्वारा एक मध्यम वर्ग के छात्र तथा छात्राओं को High cost quality एजुकेशन मिलना संभव हो पाता हैं ।
  • एजुकेशन लोन द्वारा स्टूडेंट्स अपने पढ़ाई में होने वाले खर्चों का भार खुद उठा पाते हैं,उन्हें अपने अभिभावकों पर निर्भर नहीं रहना पड़ता हैं ।
  • एजुकेशन के लिए लोन, निवेश (Investment) के तौर पर आर्थिक विकास तथा समृद्धि का कारण भी हैं ।

एजुकेशन लोन कैसे लिया जाता है:




एजुकेशन लोन लेने के लिए कुछ Steps follow करने पड़ते हैं,आइये जानते हैं की कैसे इस लोन को लिया जा सकता हैं:

Step 1: सबसे पहले किसी भी बैंक के वेबसाइट या फिर बैंक में जाकर आप एप्लीकेशन फॉर्म द्वारा एजुकेशन लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं (Apply for loan in Application Form by visiting bank or online mode)

Step 2: एप्लीकेशन फॉर्म के साथ-साथ दी गयी डाक्यूमेंट्स की जांच बैंक या किसी अन्य संस्था द्वारा की जाएगी। (Verification of Application along with documents)

Step 3: डाक्यूमेंट्स के आधार पर लोन की स्वीकृति बैंक द्वारा दे दी जाएगी। (Section of Education Loan)

Step 4: विद्यार्थी या फिर अभिभावक द्वारा प्रामिसरी नोट पर हस्ताक्षर करवाया जाता हैं । (Borrower’s signature on a Promissory Note)

Step 5: लोन की राशि स्वीकृति के बाद ऋणी लोन का भुगतान कर सकते हैं । (Disbursal of Loan)

एजुकेशन लोन के लिए डाक्यूमेंट्स:




एजुकेशन लोन के अप्लाई के लिए विभिन्न डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता होती हैं, जैसे :

  • 2 पासपोर्ट आकर के फोटो (2 Passport Size Photographs)
  • आवासीय प्रमाण Proof of residence (passport, voter’s ID card, etc.)
  • अभिभावक के आय प्रमाण पत्र (Parent’s proof of income, salary slip, form 16)
  • अभिभावक का बैंक स्टेटमेंट (Parent’s bank account statement of last 6 months)
  • अभिभावक का आयकर प्रमाण पत्र (Parent’s Income Tax Assessments of last 3 years)
  • आधार कार्ड (Aadhaar Card).
  • 10 वीं/12 वीं तथा स्तानक मार्कशीट का विवरण (10th/12th/Graduation/Post Graduation marks statements).
  • वर्तमान रोजगार प्रमाणपत्र ( Current Employment Certificate).

एजुकेशन लोन के लिए योग्यताये (Eligibility):

  • एजुकेशन लोन लेने के लिए भारत का नागरिक होना अनिवार्य हैं।
  • 18 से 65 वर्ष तक के आयु वाले आवेदक एजुकेशन लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं।
  • इस लोन को लेने के लिए छात्र के अभिभावक या कोई अन्य
    सह-आवेदक (Co- Applicant) का होना आवश्यक हैं।
  • एजुकेशन लोन professional, technical या फिर Job-Oriented कोर्स के लिए मुहैया करवाया जाता हैं।

एजुकेशन लोन के फायदे :




इस लोन के बहुत सारे फायदे हैं:

  • यह लोन बहुत कम ब्याज दर (Interest Rate) पर विद्यार्थी को प्राप्त हो जाता हैं।
  • इस लोन के तहत guarantor को 80E के तहत कर छूट (Tax Exemption) मिलती हैं।
  • एजुकेशन लोन को चुकाना बहुत आसान होता हैं, क्योकि स्टूडेंट की जॉब लगने के बाद लोन की कुछ राशि EMI (Equated Monthly Installment) के तौर पर दी जा सकती हैं।
  • Repayment के लिए एजुकेशन लोन में कोर्स की अवधि समाप्त होने के 6 महीने या फिर एक साल जॉब के बाद ही लोन EMI के रूप में calculate की जाती हैं । लोन चुकाने की अवधि 5 से 7 साल तक की होती हैं लेकिन अगर लोन 5 लाख हैं तो लोन चुकाने की अवधि 10 साल तक की दी जाती हैं तथा 7.5 लाख से ऊपर लोन के लिए 15 साल की अवधि दी जाती हैं।

विभिन्न सरकारी बैंकों के एजुकेशन लोन (Education Loan) पर ब्याज दर:

Bank Interest Rate
State Bank of India 8.30% p.a. to 10.70% p.a.
Bank of Baroda 8.50% p.a. to 11.05% p.a.
United Bank of India 10.75% p.a. to 10.80% p.a.
Central Bank of India 9.80% p.a. to 10.30% p.a.
Bank of Maharashtra 10.15 p.a. to 10.65% p.a.
Canara Bank 8.50% p.a. to 11.50% p.a.
Dena Bank 8.25% p.a. to 10.25% p.a.
Indian Overseas Bank 8.60% p.a. to 11.40% p.a.
Punjab National Bank 8.25 p.a. – 10.75% p.a.

इस आर्टिकल द्वारा आपने एजुकेशन लोन के बारे में काफी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त की होगी। एजुकेशन लोन खासकर करके सभी स्टूडेंट्स को जरूर पता होनी चाहिए ताकि भविष्य में जरुरत पड़ने पर वे आसानी से लोन द्वारा आपने सपने को साकार कर सके ।

Continue Reading
Advertisement
1 Comment

1 Comment

  1. Madhu jha

    17th December 2019 at 9:21 am

    thanks for sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!