बिज़नेस फ्रैंचाइज़ क्या होता है, बिज़नेस फ्रैंचाइज़ कैसे लें?





बिज़नेस फ्रैंचाइज़ क्या होता है, बिज़नेस फ्रैंचाइज़ कैसे लें?

सारी दुनिया का चलन बिज़नेस से ही होता है। बिज़नेस ऐसी प्रक्रिया है जिसमे एक व्यक्ति खरीददार होता है तो दूसरा विक्रेता। कोई भी कंपनी या तो उसके द्वारा बनाये गए उत्पाद या उसकी सेवाएँ उपभोक्ता को बेचती है।

बिज़नेस फ्रैंचाइज़ क्या होता है:

हर किसी कंपनी को लगता है कि उसके बिज़नेस की तरक्की हो। उसका बिज़नेस ज़्यादा से ज़्यादा विकसित हो और उसके प्रोडक्ट या सेवाओं की brand value बढे और इस चीज को बढ़ने के लिए कंपनी तरह-तरह के विकल्पों को तराशती है।

बिज़नेस को बढ़ने के कई तरीके है, उनमे से से एक है बिज़नेस फ्रैंचाइज़।

बिज़नेस फ्रैंचाइज़ एक जाना-माना तरीका है जो एक लायसेंसिंग एग्रीमेंट के तहत काम करता है।

इस एग्रीमेंट में दो कम्पनीज होती है। एक कंपनी, जिसे प्रायः पैरेंट कंपनी(Parent company) कहा जाता है, वह दूसरी कंपनी को लायसेंसिंग एग्रीमेंट (Licencing agreement)  के जरिये कुछ हक़ प्रदान करती है।

जिसके तहत दोनों कम्पनियाँ किसी क्षेत्र में बिज़नेस करके पैसा कमाकर मुनाफा एक दूसरे के साथ बांटती है।




फ्रैंचाइज़ी एक व्यवसाय या व्यवसाय का माध्यम है जिसमें मालिक, या “फ्रैंचाइजर” , अपने बिज़नेस के (logo) लोगो, नाम और मॉडल को दूसरे पक्ष के रिटेल आउटलेट्स को बेचते हैं।

जिसका Independent of ownership उस पक्ष के ऑपरेटरों के पास होता है, जिसे “फ्रेंचाइजी” कहा जाता है।

यह व्यापार करने का एक बहुत ही सामान्य तरीका है जिसका प्रयोग ब्रांडेड और अधिक बड़े-आमतौर पर नेशनल और

इंटरनेशनल कंपनी (फ्रेंचाइज़र) द्वारा उनके बिज़नेस को बढ़ने के लिए किया जाता है।

Stores और Restaurants जो आप हर दिन देखते हैं उनमें से कई फ्रेंचाइजी हैं: McDonald, Subway, Peter England, Ace Hardware, Pizza Hut, Hilton Hotel, इत्यादि।

Related post: पतंजलि फ्रेंचाइज़ी के लिए अप्लाई कैसे करें?

बिज़नेस फ्रैंचाइज़ कैसे लें:





यह हमेशा याद की आपको अगर किसी भी बड़े बिज़नेस का बिज़नेस फ्रैंचाइज़ बनना है तो सबसे पहले आपको एक क्षेत्र चुनना होगा जिसमे आपको लगता है कि व्यापार की असीम सम्भावनाये है और उसका भविष्य उज्ज्वल है।

उसके बाद आपको आपके क्षेत्र की 2-3 बड़ी कम्पनीज को ढूंढ़ना होगा जो फ्रैंचाइज़ देती है।

फ्रैंचाइज़ बनने के लिए, आपको एक फ्रैंचाइज़ शुल्क का भुगतान करना होगा।

याद रखिये, आपको आपका होमवर्क जैसे बजट वगैरह का प्रबंधन पहले ही करना होगा।

इसके आलावा, ज्यादातर मामले में स्टोर की जगह आपको ही मैनेज करनी होती है।

जैसे ही Upfront payment का भुगतान करते है और लायसेंसिंग एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर करते है।

आपको आपका फ्रैंचाइजर निम्नलिखित चीजों के उपयोग करने का अधिकार देता है:

  • Business or brand name
  • Trading system
  • Operating manual
  • Marketing materials
  • Business software
  • All other proprietary content





इसके अलावा, आपको आपके बिज़नेस के लिए एक विशेष एरिया दिया जा सकता है।

एरिया के बारे में जानकारी हमेशा आपके लायसेंसिंग एग्रीमेंट में दी गई है।

इससे वह एरिया आपके व्यवसाय के लिए आरक्षित हो जाता है और वह किसी और को उस खेत्र में फ्रैंचाइज़ी नहीं दे सकता।

साधारणतः ऐसे कॉन्ट्रैक्ट्स 5 से 10 साल के लिए किये जाते है, और आमतौर पर आपको उन्हें बाद में renew करने का अधिकार होता है।

सही फ्रैंचाइज़ी कंपनी को कैसे चुने:Business franchise

आज दुनिया में फ्रैंचाइज़ी के लगभग 3000 विकल्प उपलब्ध है, जिसमे से कोई भी एक को चुनना बहोत बड़ी चुनौती है।

सही फ्रैंचाइजर का चुनाव करने के लिए बहोत सारी चीजों का ध्यान रखना पड़ता है।

आइये देखते है कि कौन सी वह चीजें है जिन्हे फ्रैंचाइज़ी लेते हुए सबसे ज़्यादा सोचना पड़ता है।

सोचिये की आपको किस काम में ज़्यादा मजा आता है या आप किस चीज में अच्छा कर सकते है?

सबसे ज़्यादा ज़रूरत आपको आपने आप में झांकने की है। आपको अपने आप को समझना होगा की आपका व्यक्तित्व किस प्रकार का है।

उदहारण के लिए अगर आपको लगता है कि आप सबको अच्छी तरह से संभाल सकते है तो उसे लिखिए।

आप अगर सबसे घुलमिल नहीं सकते तो वह लिखिए या आप अगर अच्छे वक्त है तो वह लिखिए।

ऐसी तरह से आपको अपना SWOC -strengths, weaknesses, opportunities, and threats (ताकत, कमजोरी, सम्भावनाये और चुनौतिया) लिखना पड़ेगा।

और उसपे काम करना पड़ेगा जिससे की आपकी सोच बने की भविष्य में आप कैसे आगे बढ़ सकते है।

अपने सबसे अच्छे स्किल की फ्रैंचाइज़ी की खोज कीजिये



यह जितना लगता है उससे कहीं ज़्यादा आसान है। आपको बस आपके द्वारा बनाई गई सूची (SWOC) को अपने सामने रखना है, जिससे आप कुछ फ्रेंचाइजी खोजना शुरू कर रहे हैं। लेकिन, आपको कहाँ देखना चाहिए?

सबसे पहले आप अपनी खोज ऑनलाइन शुरू करें। फ्रेंचाइज पोर्टल्स शुरू करने के लिए सबसे अच्छी जगह है।

उनमें से कुछ को खोजने के लिए, अपने पसंदीदा सर्च इंजन का उपयोग करें और “फ्रैंचाइज़ी के अवसरों” या “बिक्री के लिए फ्रैंचाइज़ीज़” टाइप करें। आपको आपके Franchise offers अवश्य प्राप्त होंगे।

उसके बाद आप उनमें से कुछ काम की फ्रैंचाइज़ी ऑफर्स को shortlist कीजिये और उसके बाद शांतिपूर्ण ढंग से सबके ऑफर्स चेक कीजिये।

अपने लिखे हुए SWOC से तुलना कीजिये। आपको इस चीज से आपको खुद के risk-reward का पता चल जायेगा।

उसके बाद में आप अपनी पूंजी के बारे में विश्लेषण कर लीजिये।

जैसे कि आपको बिज़नेस शुरू करने के लिए कितनी शुरुवाती पूंजी लगेगी?

मार्केटिंग, स्टाफ और प्रतिदिन लगने वाली पूंजी का भी विश्लेषण कीजिये।

बिज़नेस ट्रेंड को जानिए

यह पहलु सबसे ज़्यादा महत्त्वपूर्ण है क्योंकि अगर आपने ट्रेंड को पकड़ लिया तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

इसका सिदा-साधा अर्थ है, सही समय पर सही व्यवसाय और सही कंपनी को चुनना।

लेकिन ये ट्रेंड पकड़ना बहोत ही मशक्कत वाला कार्य है और इसके लिए आपको खूब सारा Market research और  analysis करना पड़ता है।

आपको हमेशा यह देखना पड़ेगा की कस्टमर्स का रुझान किस तरफ जा रहा है। हो सकता है कि वह रुझान अभी किसी को दिख नहीं रहा हो लेकिन आपमें वह क्षमता होनी चाहिए की आप जल्द से जल्द वह चीज समझे।

यह समझना ज़रूरी है कि जो आज हॉट चीज है वह कल नहीं रहेगी क्योंकि कस्टमर्स के रुझान बदलते रहते है।

यह सब चीजों को समज़ने के लिए आपको लगातार पढ़ना पड़ता है और सीखना पड़ता है।

सबसे ज़रूरी है कि आपको फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस के लिए long term की सोच रखनी पड़ती है।

और उसके लिए धैर्य और उत्साह अत्यंत आवश्यक है।

दोस्तों आज के इस पोस्ट में हमने जाना कि बिज़नेस फ्रैंचाइज़ क्या होता है, बिज़नेस फ्रैंचाइज़ कैसे लें?

आपको ये पोस्ट कैसा लगा आप मुझे कमेंट करके जरूर बताये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *