Smartphone buying guide in Hindi – एक अच्छा स्मार्टफोन कैसे ख़रीदे

Share this post

Last Updated on




स्मार्टफ़ोन की संख्या दुनिया में निरंतर बढ़ रही है। विश्व में कुछ ऐसा नजारा होने लगा है की सभी राष्ट्रों में करीबन उतने स्मार्टफ़ोन होने लगे हैं जितनी उनकी जनसंख्या है। स्मार्टफ़ोन का मार्केट इतना बड़ा हो गया है कि एक ही तरह के फीचर वाले मोबाइल आज हज़ारों कम्पनियां अपने अलग-अलग नामों से बेच रही है। ऐसे में उपभोक्ता काफी कंफ्यूज हो जाता है, कि आखिर वो कौन सा स्मार्टफ़ोन ले और कौन सा नहीं। इसीलिए दोस्तों आज के इस पोस्ट में मैं आपको एक अच्छा फोन खरीदने की पूरी सलाह दूंगा। (Smartphone buying guide in Hindi).

यहाँ पर हम आपकी मदद करने की कोशिश कर रहे हैं। अगर आप कोई स्मार्टफ़ोन खरीदने की सोच रहे है, तो कुछ मुख्य चीज़े हैं जिनका अगर आप ध्यान रख लें तो शायद आप स्मार्टफ़ोन खरीदने में कोई भी गलती नहीं करेंगे और मार्केट से अपने लिए एकदम उपयुक्त फ़ोन खरीद लेंगे। आइये इधर –उधर की बात करने के बजाये सीधे उन चीज़ो के बारे में जानते हैं, जिनका स्मार्टफ़ोन खरीदते समय ध्यान रखना ज़रूरी ह।

Smartphone buying guide in Hindi:

आपको किस प्रकार का स्मार्टफ़ोन चाहिए :

स्मार्टफ़ोन तो कईओं के पास एक ही होता है, पर उसके प्रयोग करने का तरीका सबका अलग-अलग होता।कईं लोग तो स्मार्टफ़ोन के कुछ स्मार्टेस्ट फीचर को अपनी अज्ञानता या ज़रुरत ना होने के कारण कभी प्रयोग ही नहीं करते। कईं लोग महंगे से महंगा फ़ोन ले लेते है, पर उपयोगिता ना जानने के कारण उसका केवल फ़ोन ऊठाने, रखने या कुछ फोटो वगैरह लेने तक ही प्रयोग करते हैं।

ऐसे स्मार्टफ़ोन उपभोक्ताओं से अक्सर उनके जानकार यह सवाल करते हैं, की अगर आपको इनके फीचर का पूर्ण उपयोग करना ही नहीं था तो इतना महंगा फ़ोन लिया क्यूँ? लोगों को लगता है की जितना महंगा फ़ोन है, उतना ही अच्छा होगा इसलिए उसे खरीद लेते हैं। पर इस प्रकार खरीदने का तरीका स्मार्टफ़ोन खरीदने के लिए बिलकुल ठीक नहीं.

स्मार्टफ़ोन खरीदने से पहले उपभोक्ता को अपने आप से ये सवाल कर लेना चाहिए, कि आखिर स्मार्टफ़ोन के कौन से फीचर हैं जिनकी उससे सबसे ज्यादा आवश्यकता है। जैसे कईं लोगों के लिए अच्छी फोटो खींचना सबसे ज़रूरी पहलू होता है तो कुछ अन्य लोगों के लिए ऑफिस की विडियो कॉन्फ़्रेंसिंग अटेंड करना या ऑफिस डाक्यूमेंट्स पर काम करना।

अलग-अलग लोगों की अलग-अलग ज़रूरतें होती हैं। इसलिए सबसे पहले आप अपने दिमाग में यह स्पष्ट कीजिए कि आप अपने नए स्मार्टफ़ोन से चाहते क्या हैं. क्या यह उचित होगा की केवल WhatsApp पर या कुछ अन्य Messenger Apps पर मेसेज पढने और भेजने के लिए आप 20,000 रुपये का फ़ोन ले लें?

आप कौन सा ऑपरेटिंग सिस्टम खरीदना चाहते हैं:

मार्केट में बहुत से स्मार्टफ़ोन हैं जो अलग-अलग प्लेटफ़ॉर्म पर काम करते हैं। अभी के समय में सबसे ज्यादा बिकने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम हैं Android। ज़्यादातर एप्लीकेशन Android  के लिए ही बनायी जाती हैं। एंड्राइड के अलावा iOS, Windows, HTML5, React Native आदि और भी बहुत से ऑपरेटिंग सिस्टम्स है।

Android में भी तीन प्रकार के OS Version हैं – Lollipop, Marshmallow और Nougat। इस समय Nougat काफी प्रचालन में है। आप ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में अच्छी प्रकार से जानें और जो ऑपरेटिंग सिस्टम आपको अपने लिए उपयुक्त लगता है, उस का लेटेस्ट वर्जन ले आयें। कईं बार हम अपनी अज्ञानता से पुराने वर्जन वाले ऑपरेटिंग सिस्टम ले आते हैं और फिर उसके अपडेट ना होने के कारण पछताते हैं। आप स्मार्ट बनें और लेटेस्ट वर्जन वाला ऑपरेटिंग सिस्टम ही लें।

डिजाइन और कार्यक्षमता:

स्मार्टफोन की डिजाईन कि चॉइस कईं लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है। किसी भी स्मार्टफ़ोन के डिजाईन का चुनाव अपनी-सपनी व्यक्तिगत पसंद पर निर्भर करता है फ़ोन खरीदने से पहले अंदरूनी और बाहरी दोनों ही डिजाईनों को बड़े गौर से जांच लेना चाहिए। और आपके स्मार्टफ़ोन फीचर को मैच करते सभी मॉडल्स के डिजाईन को एक बार देख लेना चाहिएअगर आपको बाहरी सुन्दरता ज्यादा प्रभावित करती है, तो निस्संदेह ही इसके लिए आपको सभी मॉडल्स के डिजाईन एक बार देख लेने चाहिए

4. स्मार्टफ़ोन का साइज़ और उसका स्क्रीन डिस्प्ले:

अगर आपको लेटेस्ट Android गेम्स खेलने का शौक है, या फिर आप ये चाहते हैं की आपको हमेशा न्यूज़ अपडेट्स मिलते रहें या फिर अगर आप ऑनलाइन मूवी देखने के शौक़ीन हैं तो आपके लिए ये बेहतर है कि आप एक बड़े स्क्रीन साइज़ वाला मोबाइल फ़ोन लें. 5.2” का डिस्प्ले इसके लिए सबसे बेहतर है। अगर आप सिर्फ कभी-कभी ही कोई विडियो देखते हैं या गेम खेलते हैं, तो आपको बड़े स्क्रीन वाले फ़ोन की कोई आवश्यकता नहीं है अपनी उपयोगिता के हिसाब से ही स्क्रीन साइज़ चुनें




अगर हम डिस्प्ले टेक्नोलॉजी की बात करें तो दो प्रकार के डिस्प्ले होते हैं: LCD और AMOLED। दोनों में केवल प्रकाश के प्रक्षेपण के तरीके का फर्क होता है. जहाँ एलसीडी स्क्रीन थोड़ा ज्यादा प्रकाश देने वाला और सूरज के प्रकाश में भी फ़ोन के कंटेंट को बेहतर प्रदर्शित करता है, वहीँ AMOLED स्क्रीन ‘कंट्रास्ट’ को बहुत बेहतर ढंग से प्रदर्शित करता है और रंगों को बहुत बेहतर रूप से दर्शाता है। चयन आप पर निर्भर करता है की आप क्या चाहते हैं।

5. इंटरनल मेमोरी और स्पेस:

कईं लोगों को फोटो, विडियो, डाक्यूमेंट्स आदि को सहेज के रखने की ज्यादा आवश्यकता होती है। ऐसे लोगों के लिए ज़रूरी है की उनकी RAM और ROM (इंटरनल मेमोरी) दोनों ही अच्छी हों। ऐसा होने पर ही आप ज्यादा से ज्यादा कंटेंट को सहेज कर रख पायेंगे। अगर आप बहुत से Apps एक साथ चलाते हैं या चलाना चाहते हैं तो आपको ये सुनिश्चित करना होगा की आपके मोबाइल की इंटरनल मेमोरी और RAM दोनों ही अच्छे हों

एक बार को आप एक्सटर्नल माइक्रो SD कार्ड की मदद से अपने स्मार्टफोन की मेमोरी तो बढ़ा सकते हैं पर किसी भी प्रकार से उसकी RAM नहीं बढ़ा सकते इसलिए यही बेहतर होगा की आप ऐसा हैण्डसेट खरीदें जिसकी RAM अच्छी हो ऐसा फ़ोन लें जिसकी RAM कम से कम 2GB हो और 16GB इंटरनल मेमोरी हो

बैटरी लाइफ:

स्मार्टफ़ोन खरीदते हुए बैटरी लाइफ का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है और सब फीचर तो अपने व्यक्तिगत उपयोग पर निर्भर करते हैं पर बैटरी लाइफ एक ऐसा फीचर है जो सब बेहतर ही चाहते हैं बैटरी की पॉवर mAh में मापी जाती है. जितना ज्यादा mAh होगा, उतनी ही बैटरी लाइफ अच्छी होगी

आज के समय में 3000 mAh को एवरेज माना जाता है. इस बात का ध्यान रखें की अगर आप दिन भर एप्लीकेशन का प्रयोग करते हैं या फिर आपके स्क्रीन का रिजोल्यूशन ज्यादा है, तो आपका फ़ोन बैटरी ज्यादा खायेगा बेहतर यही होगा की आप 2000mAh से ऊपर क्षमता रखने वाला मोबाइल ही खरीदें

 कैमरा:

अगर आप फोटोज और सेल्फी के शौक़ीन हैं तो कैमरा की गुणवत्ता पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी है कुछ स्मार्टफ़ोन सेल्फी के लिए बने होते हैं तो कुछ इमेज कैप्चरिंग के लिए आपको सभी स्मार्टफ़ोन के कैमरा रिव्यु भी पढ़ लेना चाहियेवैसे कैमरा में मेगापिक्सल, हाइब्रिड ऑटो-फोकस, ऑप्टिकल स्टेबलाइज़ेशन, मैन्युअल मोड, सेल्फी मोड, स्पेशल इफेक्ट्स आदि कुछ ऐसे कैमरा फीचर होते हैं जिनका हमेशा ही ध्यान रखना चाहिए

अब जबकि स्मार्टफ़ोन का प्रयोग डिजिटल कैमरे की तरह किया जाने लगा एक अच्छे कैमरे वाला फ़ोन लेना ही बेहतर होगा एक बात याद रखें, लोगों को लगता है की जितने मेगापिक्सेल्स ज्यादा होंगे उतना ही फ़ोन अच्छा होगा, पर ऐसा नहीं है मेगापिक्सएल के अलावा ऑटो फोकस आदि कईं ऐसे पहलू हैं जो की एक अच्छे स्मार्टफ़ोन कैमरा में होने ही चाहिए

सॉफ्टवेर और फंक्शन:

अगर आप नई तकनीकों से अवगत हैं, तो आपने फिंगरप्रिंट सेंसर, हार्ट रेट मॉनिटर आदि स्मार्टफ़ोन फीचर्स के बारे में सुना होगा ये किसी भी स्मार्टफ़ोन के Add-on फीचर हैं इनका चयन व्यक्तिगत ज़रुरत पर निर्भर होता है इसमें से किसी का भी होना अनिवार्य नहीं है, पर अगर ये हों तो ये स्मार्टफ़ोन की फंक्शनिंग और आपकी लाइफ दोनों को सुलभ बना देते हैं

 प्राइज रेंज:





अगर आपको स्मार्टफ़ोन फीचर के बारे में ज्यादा नहीं पता, पर ये पता है की आपको किस कीमत तक का फ़ोन लेना है, तो आपको उस कीमत के सभी फ़ोन की तुलना कर लेनी चाहिए ताकि आपको आपकी उपयोगिता के हिसाब से ज्यादा से ज्यादा फीचर उस कीमत में मिल सकें। अगर आपको ये पता है, की आपको कौन से फीचर आपके स्मार्टफ़ोन में चाहिए तो आपको फ़ोन खरीदने से पहले इस बात का अंदाजा कर लेना चाहिए की इन सभी फीचर के लिए कौन सा प्राइज-रेंज सही है इससे आप अपना हे नुक्सान करने से बच जायेंगे और एक इनफॉर्मड डिसिजन ले पायेंगे

अगर आप उपर्युक्त सभी बातों का ध्यान स्मार्टफ़ोन का चुनाव करते हुए रखेंगे, तो हम ये सुनिश्चित करते हैं की आप सही चुनाव ही करेंगे और कभी धोका नहीं खायेंगे।अगर आप को इससे जुडी कोई और जानकारी चाहिए तो आप ज़रूर हम से संपर्क करें।

तो दोस्तों आपको Smartphone buying guide in Hindi, पोस्ट कैसा लगा आप मुझे कमेंट करके जरूर बताये। अगर आप भी एक नया स्मार्टफोन खरीदने चाहते है, लेकिन आपको ये समझने में प्रॉब्लम हो रहा है, की कौन सा फोन लें, तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें मैं आपको एक अच्छा फोन खरीदने में आपकी मदद करूँगा।

Related posts:

 




Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.