म्यूच्यूअल फंड क्या होता है? पूरी जानकारी हिंदी में

Share this post

क्या आप जानते है की म्यूच्यूअल फंड क्या होता है, म्यूच्यूअल फंड कितने प्रकार के होते है, और इसमें इन्वेस्टमेंट कैसे करते है? दोस्तों आपने पहले तो म्यूच्यूअल फंड के बारे में जरूर सुना होगा। क्योकि म्यूच्यूअल फंड निवेश बहुत ही पॉप्युलर और इसका विज्ञापन आपको टीवी और रेडिओ पे आता ही है। दोस्तों अगर आप भी म्यूच्यूअल फंड में निवेश करना चाहते है तो मेरे इस पोस्ट को पूरा पढ़े। क्योकि इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा कि आखिर म्यूच्यूअल फंड क्या होता है, और म्यूच्यूअल फंड में कैसे में इन्वेस्ट करते है। म्यूच्यूअल फंड में क्या रिस्क होता है।

म्यूच्यूअल फंड क्या होता है( What is a Mutual Fund in Hindi):

म्यूच्यूअल फंड की शुद्ध परिभाषा कहती है” म्युचुअल फंड एक इस तरह के इन्वेस्टमेंट प्रोग्राम है जहां शेयर होल्डर अपनी पूंजी को इकट्ठे करते हैं कि वह इस पूंजी का निवेश के लिए प्रबंधन एक पेशेवर की जिम्मेदारी होता है। सरल शब्दों में कहा जाए तो म्यूचुअल फंड निवेशकों से  पूंजी इकट्ठा करते हैं।

इस इकट्ठी की गई पूंजी का प्रबंधन पेशेवरों के द्वारा किया जाता है। और इस प्रबंधन के लिए म्यूचुअल फंड  एक निश्चित शुल्क लेते हैं। म्यूचुअल फंड में हुआ फायदा इसके सभी निवेशकों को निवेश की गई पूजा के अनुपात में वितरित किया जाता है। वैसे ही इस में हुए नुकसान को निवेश की गई पूंजी के अनुपात में उठाना पड़ता है।

कुछ म्यूच्यूअल फंड में आपको स्वतंत्रता होती है कि आप कभी भी इसमें सम्मिलित हो सकते हैं। और कभी भी इस से बाहर निकल सकते हैं। परंतु कुछ म्यूच्यूअल फंड आपसे अपनी पूंजी का निवेश एक निश्चित समय अवधि के लिए  करवाते हैं।निवेशक अपनी सुविधा अनुसार म्यूच्यूअल फंड का चुनाव कर सकते हैं। चूंकि  म्यूच्यूअल फंड बाजार जोखिम के अधीन आते हैं  इसीलिए इनका नियमन( रेगुलेशन) सेबी ( सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया)के द्वारा किया जाता है।

म्यूच्यूअल फंड इन्वेस्टमेंट क्यों करें( Why Mutual Fund in Hindi):

आम आदमी के लिए बाजार में सीधे निवेश की जगह म्यूचुअल फंड के द्वारा निवेश बेहतर माना जाता है। इसके दो प्रमुख कारण है।

पहला कारण यह है कि आपकी निवेश की पूंजी हो सकता है इतनी कम हो कि वह कुछ ब्लू चिप शेयरों तक पहुंच ही न पाए। परंतु आप जैसे कई निवेशक जब अपनी पूंजी को इकट्ठा करते हैं, तो यह पूंजी अपने आप में एक  बड़ी पूंजी हो जाती है।और इसका प्रबंधन देखने वाले पेशेवर के लिए निवेश करने के विकल्प बढ़ जाते हैं।

दूसरा और सबसे महत्वपूर्ण कारण है विशेषज्ञता। आप शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं पर न ही आप फंडामेंटल एनालिसिस समझते हैं ना ही आप टेक्निकल एनालिसिस समझते हैं। ऐसे में आपका शेयर बाजार में निवेश करना अत्यंत जोखिम भरा हो सकता है। इसीलिए अपनी पूंजी किसी ऐसे पेशेवर के हाथ में डे देनी चाहिए जो  बाजार की बारीकियों को समझता है।

अगर आम जिंदगी का उदाहरण ले तो  मान लीजिए कि आपको कार चलाना आता नहीं है। और आप कार चलाने के इच्छुक हैं तो आप ऐसा कर तो सकते हैं। पर ऐसा करने से आपकी जिंदगी और आपकी कार दोनों पर ही जोखिम बना रहेगा। वही आप एक पेशेवर वाहन चालक को अगर कार चलाने के लिए दे देंगे तो आप भी सुरक्षित रहेंगे और आपकी कार भी।

म्यूच्यूअल फंड कितने प्रकार के होते है( Types of Mutual Fund in Hindi):

म्यूचुअल फंड के कई प्रकार होते हैं और इसके हर प्रकार के और भी कई प्रकार होते हैं। परंतु मोटे तौर पर इन्हें चार भागों में बांटा जा सकता है।

  1. इक्विटी म्युचुअल फंड : किस तरह के म्युचुअल फंड सीधे शेयर में निवेश करते हैं। इनमें होने वाला फायदा नुकसान शेयर बाजार के प्रदर्शन पर निर्भर करता है। एक तरफ तो इस तरह के म्युचुअल फंड ज्यादा फायदा देते हैं वहीं दूसरी तरफ इनमें जोखिम भी ज्यादा होता है। इक्विटी म्युचुअल फंड कम से कम 10 तरह के होते हैं।
  2. डेप्ट म्यूच्यूअल फंडइस तरह के विचार फंड मे  डेप्ट  सिक्योरिटी में निवेश किया जाता है। इस तरह की म्यूच्यूअल फंड सिक्योरिटी म्युचुअल फंड से कहीं ज्यादा सुरक्षित माने जाते हैं परंतु इनमें फायदा भी सिक्योरिटी म्युचुअल फंड से कम होता है। डेप्ट म्यूच्यूअल फंड 16 तरह के होते हैं।
  3. हाइब्रिड म्युचुअल फंड: इस तरह के म्यूच्यूअल फंड में म्यूचुअल फंड प्रबंधक को आजादी होती है कि वह शेयर एवं डेप्ट दोनों में निवेश कर सकते हैं। हाइब्रिड म्युचुअल फंड के 6 प्रकार होते हैं निवेशक अपनी जोखिम उठाने की क्षमता के अनुसार इनका  चुनाव कर सकते हैं।
  4. समाधान उन्मुख या सॉल्यूशन ओरिएंटेड म्युचुअल फंड: इस तरह के म्यूच्यूअल फंड में निवेश किसी एक मुख्य उद्देश्य को ध्यान में रखकर किया जाता है। उदाहरण के लिए रिटायरमेंट या बच्चे की पढ़ाई। इस तरह के म्यूच्यूअल फंड में एक निश्चित लॉक इन पीरियड होता है। जैसे कि 5 वर्ष। इस तरह के म्यूच्यूअल फंड में निवेश लंबी अवधि को ध्यान में रखकर किया जाता है।

म्यूच्यूअल फंड इन्वेस्टमेंट के क्या फायदे है (Mutual Fund Benefits in Hindi):

म्यूचुअल फंड में निवेश के कई फायदे हैं। सबसे पहला फायदा तो यही है कि आपकी पूंजी का प्रबंधन एक ऐसा व्यक्ति या टीम  देख रहा होता है। जिसे बाजार की बारीकियों के  बारे में पता है। आपकी पूंजी अन्य निवेशकों की पूंजी के साथ मिलकर एक बड़ी पूंजी बन जाती है जिससे आपकी पूंजी के निवेश के विकल्पों में भारी  बढ़ोतरी हो जाती है।

बहुत ही ऐसी चीजें होती है जहां पर निवेश करने के लिए आपके पास उचित मात्रा में पूंजी नहीं होती है। परंतु म्यूच्यूअल फंड इस समस्या का समाधान है। आपकी पूंजी आने निवेशकों की पूंजी के साथ मिलकर उस चीज में निवेश कर सकती है।

अगरआप म्यूचुअल फंड में 1 वर्ष या इससे ज्यादा के लिए निवेश करते हैं, तो टैक्स में आपको फायदे मिलते हैं। इसके साथ ही साथ आप टैक्स डिडक्शन का फायदा भी उठा सकते हैं। अगर आपने किसी ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड में निवेश किया है तो आप इसे कभी भी अपनी पूंजी बाहर निकाल सकते हैं। आपको फिक्स्ड डिपॉजिट जैसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।म्यूच्यूअल फंड पूरी तरह से नियमित है और इनका नियमन सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया दिखता है।

म्यूच्यूअल फंड इन्वेस्ट कैसे करते है ( How to invest in Mutual Fund):

वैसे तो म्यूचुअल फंड में निवेश करने के कई रास्ते हैं और हमारी आपको सलाह है कि पहले आप तय कर ले कि आप किस तरह के म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहेंगे। म्यूचुअल फंड के प्रकार में चुनाव करते समय अपने जोखिम उठाने की क्षमता अपने उद्देश्य और कितने समय तक आप अपनी पूंजी निवेश कर सकते हैं इस बात का ध्यान रखें।

एक बार जो आपने यह निश्चित कर लिया क्या आप किस तरह के  म्यूच्यूअल फंड मैं निवेश करना चाहेंगे। उसके पश्चात बात पर रिसर्च करें कि इस प्रकार के म्यूचुअल फंड में सबसे अच्छा म्यूचुअल फंड कौन सा है।

एक बार जब आप में यह निश्चित कर लिया क्या आप कौन सा म्यूच्यूअल फंड खरीदना चाहते हैं तो आपके पास दो रास्ते हैं। सीधा म्युचुअल फंड से संपर्क करें ऑनलाइन या ऑफलाइन। या फिर किसी बैंक या ब्रोकर से  संपर्क करें जो उस म्यूचुअल फंड को ऑफर कर रहा है।

दोस्तों मैंने अपने इस पोस्ट आपको बताया कि म्यूच्यूअल फंड क्या होता है। म्यूच्यूअल फंड में क्यो इन्वेस्ट करें। म्यूच्यूअल फंड कितने प्रकार के होते है। म्यूच्यूअल फंड इन्वेस्टमेंट कैसे करते है। म्यूच्यूअल फंड इन्वेस्टमेंट के क्या फायदे है।

उम्मीद करता हु कि दोस्तों ये पोस्ट पढ़ने के बाद आपको ऊपर दिए सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे। लेकिन अगर आपको इससे रिलेटेड कोई भी सवाल पूछने हो, तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में लिखने न भूले। अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया तो आप मेरे इस पोस्ट या ब्लॉग को लोगो से साथ शेयर करना न भूले। हिंदी पोस्ट के लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए आप सब्सक्राइब करना न भूले।




Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.